अन देखी दुनिया - 11 Vaibhav Surolia द्वारा रोमांचक कहानियाँ में हिंदी पीडीएफ

अन देखी दुनिया - 11

अन देखी दुनिया - 11

नमस्ते मेरे मित्रो आज मेरी धारावाहिक "अन देखी दुनिया " का ११ वा एपिसोड है, आपने मेरे सारे एपिसोड को बहुत पसंद किया है |जब मैंने ये कहानी लिखना शुरू किया तब मेरेको नहीं पता था कि मेरी कहानी की आप सब लोग इतना पसंद करेंगे । मैं उम्मीद करता हूं कि आप मेरे आने वाले "अन देखी दुनिया " के सारे एपिसोड्स पढ़ेंगे और मेरी स्टोरी को पसंद करेंगे । तो चलिए अब हम "अन देखी दुनिया " के ११ वे एपिसोड को शुरू करते हैं............

डायन अजय को गुफा के पीछे ले गई । अजय और डायन के पीछे पीछे वह चारों भी चले गए वह सब झाड़ियों में छुपकर अजय को देख रहे थे । अजय बहुत घबराया हुआ था । और पीछे झाड़ियों में छिपे हुए याशिका जैन सुप्रिया और केशव अजय को देख रहे थे । वह चाह कर भी कुछ नहीं कर पा रहे थे ।

अजय ने डायन से पूछा यह कौन सी जगह है और तुम मुझे कहां पर लेकर आ गई ।

डायन ने कहा यह वह जगह है जहां मैं और मेरे प्रेमी बैठते हैं ।

अजय ने घबराकर कहा मतलब तुम और से भी प्यार करती हो और वह भी तुम्हारी तरह भूत है ।

डायन ने कहा नहीं पहले तो मेरी गुफा में इंसान आते हैं लेकिन मैं उन को मारकर भूत बना देती हूं ।

अजय यह सुनकर बहुत डर गया वह तो जैसे काप ने लगा उसके दोनों पांव कांपने लगे वह सोच रहा था कि यह डायन मुझे भी मार कर अपने साथ ले जाएगी ।

अजय ने नकली हंसी निकालकर डायन से कहा वह मुझे एक काम याद आ गया मैं यहां से जाता हूं ... यह कहकर अजय जाने की कोशिश करता है । तभी......

तो तभी.... डायन अपने जादू का प्रयोग कर कर उसके पास उसी जगह जमा देती है और उसके मुंह की साइड आकर खड़ी हो जाती है ।

अजय कहता है यह मैं यहा से हिल क्यों नहीं पा रहा ।

डायन ने कहा अब तुम मेरी मर्जी के यहां से मिल भी नहीं पाओगे जब तक मैं चाहूं तुम यहीं खड़े रहोगे |

अजय हिम्मत कर कर उससे पूछता है आखिर तुम मुझसे चाहती क्या हो....

डायन ने कहा यह सवाल तो मुझे तुमसे करना चाहिए

अजय कहता है " मतलब "

डायन ने कहा मतलब ये .... कि.. तुम या चक्कर लगाने या अकेले तो नहीं आए होगे | इस जगह का नाम सुनकर ही लोगों की कप कपी छूट जाती है । तो तुम यहां अपनी मर्जी से ते आए नहीं होंगे । तुम्हें आग किसने भेजा मुझे सच सच बताओ वरना..... I इतना कहकर वह अपने हाथ से एक चमकती रोशनी निकालती है और उसे अजय पर छोड़ देती है और अजय चिल्लाने लगता है क्योंकि वह अपनी शक्तियों का प्रयोग कर रही थी ।

यह देख जिन को उस दायन पर गुस्सा आया । और उसने भी अपने जादू का प्रयोग कर डायन को नीचे गिरा दिया ।

यह देख याशिका और अजय दोनों ही अचंबे में आ गए को यह डायन अपने आप कैसे गिर गई । तभी याशिका जिन की तरफ देखी और उससे पूछा

क्या यह जादू तुमने किया ।

जिन ने अपना सिर नीचे कर कर कहा हां वो में से देखा नहीं गया ।

यशिका ने कहा अब हम पकड़े जा सकते हैं यह तुमने क्या किया ।

मैंने कहा वह डायन हमारा कुछ नहीं बिगाड़ पाएगी । मैं हम सब को गायब कर दूंगा जिससे सिर्फ आपका ही हमें देख पाएंगे डायन नहीं ।

और यह कह कर जिन सब को गायब कर देता है ।

वहां पर गिरी हुई डायन उठती है और अजय की तरफ देखती है और कहती है यह तुमने किया मेरे साथ |

अजय ने कहा अरे डायन जी मैं कैसे कर सकता हूं मेरे पास तो कोई शक्तियां भी नहीं है ।

डायन ने चिल्लाकर कहा तो फिर यह पर इसने मेरे पर जादू का प्रयोग किया सामने आओ वरना मैं उसे छोडूंगी नहीं ।

तभी उसको झाड़ियां हिलने की आवाज आती है और वह उस झाड़ी के पास जाती है और कहती है अच्छा अब तुम्हारे बाकी साथी इस झाड़ी के पीछे हैं अब वह नहीं बचेंगे ।

जैसे ही डायन झाड़ी के पीछे देखती है वहां पर कोई नहीं होता ।

अरे यहां पर तो कोई भी नहीं है डार्लिंग कैहती है ।

अजय कहता है अरे हमने तो बोला ही था कि वहां कोई नहीं होगा देखा उधर कोई भी नहीं है ना |

तभी डायन को वहां पर गिरी हुई एक झुमका दिखाई देता है । झुमके को देख डायन अजय से कहती है मिलो ना बहुत कुछ मिला ।

अजय कहता है मतलब

डायन बोलती है मतलब यह कि मेरे को यहां से एक झुमका मिला है अब तुम पहनते नहीं होगी झुमका तो किसी लड़की का ही हो गाना ।

अजय कहता है अरे वहां मेरे को याद आया मेरी मां नहीं मुझे यह झुमका दिया था उन्होंने कहा था कि यह झुमका जब तक तुम्हारे साथ रहेगा तब तक तुम्हें कुछ नहीं होने देगा ।

डायन कहती है अच्छा...इसका मतलब यह कि अब तुम्हारे साथ कुछ भी हो सकता है । अब तुम्हारे पास तो यह झुमका है नहीं ।

यह कहकर डायन अजय पर फिर से अपने जादू का प्रहार करने जा रही थी कि तभी....अजय वहां से गायब हो जाता है ।

फिर वह डायन चिल्ला कर बोलती है कहां गए तुम जहां पर भी जाओगे मुझसे नहीं बच पाओगे कभी ना कभी तो मेरे सामने आओगे ही ना तुम्हारा मकसद मैं कभी पूरा नहीं होने दूंगी ......... I

To be Continued........










रेट व् टिपण्णी करें

Vaibhav Surolia

Vaibhav Surolia मातृभारती सत्यापित 12 महीना पहले

Shakti Singh Negi

Shakti Singh Negi मातृभारती सत्यापित 12 महीना पहले

Anuradha Surolia

Anuradha Surolia 1 साल पहले

ashit mehta

ashit mehta 1 साल पहले

અધિવક્તા.જીતેન્દ્ર જોષી Adv. Jitendra Joshi