अन देखी दुनिया - 10 Vaibhav Surolia द्वारा रोमांचक कहानियाँ में हिंदी पीडीएफ

अन देखी दुनिया - 10

अन देखी दुनिया - 10

उन लोगों को गुफा में कुछ उड़ती चिज नजर आती है । वह सब उस उड़ती चिज को देखकर बहुत डर जाते हैं और उस चीज के पास जाते हैं जैसे ही वह देखते हैं कि वह चीज क्या है तो.......

तो वह देखते हैं कि उड़ती चीज और कोई नहीं बल्कि उड़ता चिराग है । वह सब पहले तो उस चिराग को देखकर बहुत डर जाते हैं लेकिन उसके बाद वह खुश हो जाते हैं कि उनको वह उड़ता चिराग मिल गया ।

यह उड़ता चिराग देख अजय ने याशिका से कहा देखो हमें कुर्ता चिराग मिल ही गया अब हम जल्दी से इस चिराग को लेते हैं और छोटी उस्ताद को जा कर दे देते हैं ।

याशिका ने अजय से कहा रुको...... यह चिराग ऐसे तो नहीं ले सकते जरूर यहां पर कोई मुश्किल आएगी और हमें सावधान रहना चाहिए ।

लेकिन अजय ने याशिका की बात नहीं सुनी और उसने कहा शहजादे लोग ऐसी छोटी मोटी चीजों से नहीं डरते रुको देखना मैं कैसे उस चिराग को यहां पर ले आता हूं ।

याशिका पीछे से उसे मना भी करती है लेकिन वह याशिका की एक नहीं सुनता और चिराग की तरफ बढ़ता है । जैसे ही वह चिराग को हाथ लगाने जा रहा होता है तभी उसके सामने डरावनी डायन आ जाती है । सभी उस डरावनी डायन को देखकर बहुत बुरी तरह से डर जाते हैं अजय के तो पसीने ही छूट जाते हैं और उसकी आंख डर के मारे खुली की खुली रह जाती है ।

याशिका मन ही मन कहती है मैंने उससे कहा था कि सावधान रहमत जा लेकिन उसने तो मेरी बात सुनी नहीं अब भुकतेगा खुद I

डायन की आंखें लाल थी और उसके नाखून काले उसके बाल बहुत लंबे थे और जब वह हस्ती थी तब अजय की हालात बहुत खराब हो जाती ऐसा लगता कि अभी बेहोश हो जाएगा ।

डायन ने हंसते हुए अजय से कहा तो तुम यहां यह उठता चिराग लेने आए हो ।

अजय ने नकली हंसी निकालते हुए कहा नहीं वह हम यहां पर.....अरे हां वह हम यहां पर घूमने आए थे । यह जंगल हमें बहुत खूबसूरत लगा तो हमने सोचा थोड़ा जंगल के अंदर घूम ले ।

डायन ने उसके कंधे पर हाथ रखकर कहा तो चलते-चलते मेरी गुफा में कैसे आना हुआ ।

अजय ले फिर से नकली असली निकाल कर कहा वो...... मेरे को यह गुफा बहुत अच्छी लगी तो सोचा थोड़ा अंदर चल कर देख लिया जाए ।

डायन ने हंसकर कहा तुम्हें जो चीज सुंदर दिखती है तुम वहां चले जाते हो मुझे लगता है कि तुम्हें सुंदर चीजों के पीछे जाना अच्छा लगता है तो चलो एक और सुंदर चीज के पीछे आओ ।

अजय ने कहा कौन सी सुंदर चीज ।

डायन ने कहा तुम्हें तुम्हारे सामने दिख नहीं रही इतनी खूबसूरत चीज ।

अजय ने फिर से नकली हंसी के साथ बोला आप और सुंदर ।

डायन ने कहा क्या मतलब

अजय ने कहा मेरा मतलब आप और सुंदर । नहीं आप अति सुंदर है ।

अजय बहुत घबरा रहा था कि वह डायन उसे अपने साथ लेकर क्यों जा रही है ।

डायन ने कहा जो भी आता है उसे मेरे साथ बैठकर खाना खाना होता है ।

पीछे खड़ी सुप्रिया अजय की फिक्र कर रही थी । की डायन ने उसे कुछ कर दिया तो ।

पता नहीं क्यों पर यशिका को भी अजय की फिक्र हो रही थी कि डायन ने उसे कुछ कर दिया तो.... I

अगर आप लोगों को भी जानना है कि आगे कहानी मैं क्या होगा डायन अजय को कहां लेकर जाने वाली है डायन का मकसद क्या है जानने के लिए पढ़ना ना भूले अगला भाग अन देखी दुनिया - 11

To be continued.........

By

Vaibhav surolia




रेट व् टिपण्णी करें

Vaibhav Surolia

Vaibhav Surolia मातृभारती सत्यापित 12 महीना पहले

ashit mehta

ashit mehta 2 साल पहले

અધિવક્તા.જીતેન્દ્ર જોષી Adv. Jitendra Joshi
Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले