Dhokha books and stories free download online pdf in Hindi

धोखा

धोखा (कहानी)

चैत का महीना । तेज धूप। दिन किसी छॉव की तलाष में हॉफता फड़फड़ाता इधर उधर भाग —दौड़ — भटक रहा है। घड़ी की सुई दो से तीन को छूने की फिराक में बच्चो की तरह बार —बार उचक रही है। सूरज है कि गुस्से से तमतमाया हुआ है। किसी सनकी राजा के सैनिकों की तरह उनसे निकलने वाली उमस पेंड़ की छॉव को भी नहीं छोड़ रही है। मानो उन्हें किसी इनामी फरार वारण्अी की तलाष हो। दुनिया चाहे इधर की उधर हो जाए मगर आज उसे किसी भी हाल मे नहीं छोड़ना है। ऐसे में हर किसी को एक अदद ठण्डी छॉव की तलाष होती है। महेष अपने काम झटपट सकेल अपनी बेग में डाल पीठ पर लटकाकर निकल पड़ा।

उफ्‌्‌फ! इतनी गरर्मी उस पर ए बंद फाटक ......।

महेष मन ही मन बुदबुदाता अपनी मोटर सायकल घुमाकर रेलवे हवाई पुल के नीचे रोक दी। हवाई पुल के उपर से जाना यानि जितनी दूरी रेलवे फाटक तक आने में तय किए उतनी दूरी फिर से तय करना और उतर कर जितनी दूरी उतरने में लगा है उसे फिर तय करना। उपर से समय और मुॅह चिढ़ाती चिलचिलाती धूप । महेष रूककर फाटक खुलने की प्रतीक्षा करने लगा।

अरे ! हर्षा इधर कहॉ ?

तीन लड़कियों की मित्र मंडली को अपने सामने से गुजरते देख महेष चौंका। एकाएक उसे ख्याल आया। अच्छा , यही पर तो उनका कालेज है। शायद वे यहॉ से आटो बैठकर घर लौटना चाहती हों। अगर ये तीन नही होती तो मैं ही बिठाकर ले जाता। ओफ हो.. ! ये तीन क्यों हैं ? महेष धीरे —धीरे विचारों की नदी में उतरने लगा। हर्षा के साथ एक तो कौसिल हो गई , दूसरी कौन है ? कौसिल तो हर्षा के घर आती जाती रहती है। एक वही बस है हर्षा की सहेलियों में जिसे महेष जानता पहचानता है। कौसिल का पूरा नाम कौसिल्या है जिसे उनकी मित्र मण्डली में कौसिल पुकारते है। आजकल शार्टकट का फैषन और चलन है। अभी अभी इसके जनमदिन पर भी आई थी और घण्टो बतियायी बिताई थी। सुडौल अंगो वाली , गजगामिनी और गजब की नाक नक्ष वाली सुन्दर कौसिल। उस पर कालेज में पढ़ना यानि सोने पे सुहागा। कौसिल ही क्यों ? लड़कियॉ सुन्दर ही होती है। लड़कियॉं ही तो है जो इस संसार की सुंदरतम चीजों में से एक है। पर ....उपर वाला भी कभी कभी गजब करता है। लड़कियॉ वही होती है पर कभी किसी को परी बना देता है और किसी को .... आदमी का मन शायद वहीं कहीं बूरा हो जाता है। आदमी बूरा नही होता मन बूरा होता है।

वे तीनों गन्ना रस के ठेले पर जा खड़ी हुई।

अभी तक मुझे नही देख पायी है तभी तो ......महेष सोचता है। उसने देखा हर्षा अपनी सहेलियों से बात करने में मषगूल है । बात करते करते वह महेष की ओर जरा — सा मुड़कर देखी और फिर से अपने सहेलियों की ओर मुखातिब हो गयी। महेष को लगा कि हर्षा इधर उसे पहचानने के लिए ही मुड़ी थी । हो न हो अपने आप में तसल्ली करना चाहती हो कि मैं जो उनका जीजू जैसा लग रहा हूॅ , जीजू ही हूॅ। विष्वास और अविष्वास में किसी एक को चुनना महेष के अपने दिल की बात है और उसने बहुत जल्दी अविष्वास का दामन थाम लिया। शायद वह जानबूझकर अनजान बन रही है। देखा ! सहेलियों के आगे बात करने में शर्म महसूस हो रही है। जब घर जाता हॅू तो जीजू ! जीजू !! कहते नही थकती —चिंया की बच्ची। महेष अचानक मुसकुराए बिना नही रह सका — चिंया। क्या नाम है। कौन रखा होगा यार । हर्षा का प्यारा और चिढ़ाने वाला नाम है — चिंया। कौन रखा है किसी को नही मालूम मगर कारण सबको पता है। चिंये की तरह ही कोमलांगी , वैसा ही सफेद—भूरा बदन , उन्ही की तरह बिलकुल छोटी सी पतली नाक और इन सबसे बड़ी और सार्थक चीज उसकी सुरीली पतली आवाज है जिसने उसे चिंया नाम दिलाने में अपनी अहम भूमिका अदा की है।

महेष को अचानक याद आया — अरे ! मैंने तो अपने चेहरे पर गमछा लपेट रखा है। हो सकता है इसीलिए वह मुझे पहचान न पायी हो। फिर दूसरे ही पल महेष मन ही मन चिढ़ने लगा —नहीं ! चेहरा ढॅका है तो क्या हुआ। मेरे कपड़े , मेरी गाड़ी , मेरा चष्मा इन सबको मिला कर तो मुझे पहचाना ही जा सकता है । एक चेहरा छोड़ कई निषानियॉ है मेरी। मैं कैसे उनके चेहरे पर भी गमछा होते हुए उसे उसकी सहेलियों सहित पहचान गया। क्या वह मेरी गाड़ी नही पहचानती। क्या उसे मेरी गाड़ी का भी नंबर नही पता। हॉ ! हॉ ! ऐसा ही है , वह जानबूझकर अभी बात नहीं करना चाह रही है।

दूसरे ही पल महेष अपने आप को समझाया। गाड़ी का रंग रूप मिलने से चीजे एक और वही नही हो जाती । कभी कभी ऑखे भी धोखा खा जाती है। हो न हो उसे मेरी गाड़ी का नंबर मालूम ही न हो। अक्सर ऐसा होता है कि अपनो को बार बार देखते रहते हुए भी उनकी कई बारीकियॉ ध्यान में नही रहती। जैसे महेष को ही अभी हर्षा का मोबाइल नंबर याद नही है। उसका ही क्यों , उसे तो किसी का मोबाइल नंबर याद नहीं है। यहॉ तक कि उनके यहॉ की एक भी गाड़ी का नंबर याद नही है महेष को। दिल है धड़कन गायब , भेजा है याददाष्त गायब। तकनीक ने मनुष्य को कितना लापरवाह , गैरतमंद और पंगु कर दिया है।

हर्षा की बातें उसकी यादें उसके साथ घटी घटनाऍ महेेष की ऑखों व दिलो — दिमाग में चलचित्र की तरह तैरने लगी। महेष मोबाइल पर हर्षा से पूछा— मैडम जी कहॉ हो ?

जीजू ! मैं लक्ष्मी मार्केट रोड पर प्रीमियम पाईंट के पास खड़ी हूॅ।

अरे ! देख भई रोड पर मत खड़ी रहो कोई उठा ले जाएगा तो मुसीबत हो जाएगी — महेष मजाक के मूड में बोला।

नही ! नही !! आप बेफिकर रहिए । मुझेे कोई नही उठा सकता— हर्षा ने पूरे मन से हॅसते — चहकते हुए जवाब दिया।

महेष पूरी तरह हर्षा के विचार में डूब चूका है। उसे हर्षा के जनमदिन की याद हो आयी।

मैडम को जनम दिन मुबारक हो।

थैंक्यू ! थैंक्यू !! हर्षा ने हर्षित मन से जवाब दिया।

अहा! क्या बात है, लाल जोड़े में खूब जॅच रही हो।

वाह जीजू आप भी न, महान हो — उसे महेष की बातों पर विष्वास न हुआ हो या संभवत उस बात को पुख्ता करने के लिए वही बात महेष से फिर सुनना चाहती हो — शरमाकर हर्षा हूबहू अपने लाल जोड़े की तरह लाल हो गयी। तन मन में एक गुदगुदी सी दौड़ गयी। महेष का मन हर्षा से बात करने का हो गया। सहसा एक धिक्कारता सा भाव उठा और उसका हाथ पकड़कर रोक दिया। नहीं , ऐसे बीच सड़क पर लड़कियों से बात नहीं करनी चाहिए। लोग क्या सोंचेंगे। लोगोे को तो बस बहाना चाहिए। रोटी को जिधर से तोड़ो उधर ही मुॅह बना लेती है वैसे ही लोगोें में बातें कभी भी कहीं भी मुॅह बना लेती है। तभी उसने अपने आपको तसल्ली दी —लेकिन हर्षा ऐसे सोचने वाली लड़कियों में नहीं है। दूसरे ही पल महेष अपने आपको साले की शादी में पाया।

सगे — संबधियों से अटा पड़ा — मण्डप । सब अपने आप में मस्त। अचानक हर्षा कहीं से आयी और महेष की ओर अपना एक हाथ बढ़ाते हुए बोली — मुझे जरा संभालना तो जीजू।

महेष हर्षा को उसकी सेंडिल पहनते तक थामे रखा।

क्या जीजू ! आपने इतना अच्छा मौका अपने हाथ से गवॉं दिया — हर्षा ने हॅसते गुदगुदाते हुए चिढ़ाया।

मतलब — महेष ने अपनी नासमझी उड़ेल दी।

मैने खुद होकर अपना हाथ दिया था और आपने उसे यूॅ ही जाने दिया।

महेष अपना सा मुॅह लिए रह गया। बदन में एक सिहरन सी दौड़ गयी।

महेष हर्षा के विचार में इतने गहरे तक डूबता उतराता रहा कि रेलगाड़ी कब पार हो गई उसे ध्यान ही नहीं रहा। रेलवे फाटक के खुलने की पों पीं —पों पीं की आवाज से एकाएक उसका ध्यान भंग हुआ। अक्सर ऐसा होता है जब तक किसी ख्यालों की दुनिया में डूबे रहते है वास्तविक दुनिया को पूरी तरह भूल जाते है। सुकून और ठण्डक भरी यादों की छॉव से बाहर निकलते ही महेष को गर्मी का एहसास जोरो से होने लगा। हर्षा को उनकी सहेलियों और उनकी यादों सहित वही जस का तस छोड़कर जाने के लिए महेष ने गाड़ी स्टार्ट कर दी । चलने से पहले उसने एक नजर गन्ना रस के ठेले पर दौड़ाई । उन तीनों ने अपने अपने चेहरे से गमछा हटा लिया है। तीनों चिलचिलाती चहचहाती गरमी में भी चिड़ियों की तरह चहकती — बतियाती गन्ना रस पीने में मगन है। सूरज तेजी से जल रहा है। धरती भी जलने लगी है अब। महेष ने एकाएक गाड़ी धीमी कर दी। उसे समझ नहीं आ रहा है कि उसकी ऑखे विष्वासघात कर रही है या उसका अपना दिल दिमाक उसका साथ देने से इंकार कर रहा है। उसकी पलके झपकना भूल गयी है। बिलकुल वही कद काठी ,वैसी ही चाल , हूबहू वही चष्मे का फ्रेम। बस चेहरा पराया है। महेष को मानों धक्का सा लगा। बाप रे ! इतना बड़ा धोखा।

महेष मानो बहती धारा में बहते बहते बच गया। खड़ा होने के लिए थाह पा लिया।

चलो अच्छा हुआ जो मैने धीरज से काम लिया।

धर्मेन्द्र निर्मल

ग्राम पोष्ट कुरूद

भिलाईनगर 490024

9754340783

स्ोंीलंकममच1225/हउंपसण्बवउ

अन्य रसप्रद विकल्प

शेयर करे

NEW REALESED