हिंदी लघुकथा कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

सुर्खियां...
द्वारा Deepak Bundela AryMoulik

सुर्खियां.. !ब्रेकिंग न्यूज़..... ब्रेकिंग न्यूज़..... ब्रेकिंग न्यूज़.... टीवी की स्क्रीन पर ब्रेकिंग न्यूज़ के ट्रांजेक्शन तीन बार म्यूजिक स्ट्रोक के साथ आते है.. एकता  होटल में बैठे लोगों का ध्यान ...

बैंगनी दुपट्टा
द्वारा Apoorva Singh

अमर एक स्मार्ट और गुड लुकिंग लड़का है जो एक प्राइवेट बैंक मे मैनेजर के पद पर न्यू दिल्ली में  कार्यरत  हैं।दो दिन बाद अमर का जन्मदिवस है। है।हर ...

बीजांकुर
द्वारा Ratna Raidani

एडवोकेट बंसल के मोबाइल पर किसी अज्ञात नंबर से कॉल आ रही थी। निर्मला ने देखा तो समझ आया कि कोई अंतर्राष्ट्रीय कॉल है। वैसे वह कभी भी उनका ...

रिक्शावाला
द्वारा Kalyan Singh

  आज बहुत दिनों बाद अपने परममित्र से मिलने जाने का उत्साह मुझे मन ही मन बहुत व्याकुल किये जा रहा था। कब जल्दी पहुँचू  ... कब उससे गले ...

कहानी - माय डिअरेस्ट पापा - 2
द्वारा S Sinha

भाग 2 ( अंतिम भाग )   आगे पढ़िए - क्या रिधान अपनी पत्नी विद्या से मिल पाता है , क्या आद्या अपनी माँ से मिल पाती है ?  ...

अंधकूप
द्वारा Rama Sharma Manavi

   प्रेम, प्यार, इश्क, मुहब्बत सब हृदय के एक अनुपम भाव के नाम हैं।बिना इसके जीवन तपते मरुस्थल की मानिंद होता है।प्रेम जीवन को अत्यंत सुंदर बना देता है, ...

ग्रामीण व्यक्ति का हिसाब
द्वारा mim Patel

एक ग्रामीण आदमी एक शहरी के यहां मेहमान बना जिसके यहां बहुत सारी मुर्गियां थी , उस शहरी के घर वालों में, उसकी पत्नी ,दो लड़के और दो लड़कियां ...

Nepotism: एक अलग पहलू
द्वारा Anil Patel

मुंबई, सुबह 6.45 बजे     वैसे तो मुंबई शहर कभी नहीं सोता, हां मगर कुछ सड़कें जरूर सुनसान होती है। ऐसी ही एक सुनसान सड़क पर वहां की शांति ...

जिंदगी से मुलाकात - भाग 4
द्वारा R.J. Artan

रिया को आज पूरी रात नींद कहां आने वाली थी  उसका दिमाग  तो जीवन के 10 मिनट  की बात पर ही अटका हुआ था ।आकाश में चांद साफ-साफ नजर ...

लड़की एक बोझ या लक्ष्मी भाग-1
द्वारा Adroja Mital

                     एस सदी में कुछ लोग लड़की को एक बोज मानते हैं तो कुछ लोग घरकि लक्षमी मानते हैं| ये कहानी हैं, दो लड़कियों कि, जो दोनो दोस्त थि। ...

भालू का अपहरण
द्वारा Sandeep Shrivastava

रघुवन का भोलू भालू शिकारियों के जाल में फंस चुका था| जैसे ही शिकारियों के लगाए हुए जाल पर उसने पैर  रखा एक शिकारी ने अपनी बन्दुक से रंग ...

कहानी - माय डिअरेस्ट पापा - 1
द्वारा S Sinha

  भाग 1 -  यह कहानी सिंगल पेरेंटिंग की कहानी है जिसमें दिखाने की कोशिश की गयी है कि पत्नी के जाने के बाद एक अकेला पुरुष किस तरह ...

अनन्या...
द्वारा Dinkal

            अनन्या आज बहुत जल्दी में थी। उसे आज जल्दी अपने काम पे पहुंचना था। आज बाहर से कुछ सेवाभावी संस्था के लोग वहां ...

तक़दीर
द्वारा Prerna

यह कहानी है ,दो बच्चों की एक लड़का जिसका नाम सीनू था और एक लड़कीजिसका नाम जुगनू था। सीनू एक बहुत गरीब लड़का था। वो फुटपाथ पर भीख माँगता ...

मिठाई
द्वारा Anil jaiswal

"मां, काम वाली आंटी आज भी नही आई क्या?" स्कूल से आकर बस्ता पटकते हुए मीनू ने पूछा। मां के चिड़चिड़े चेहरे और बेतरतीब किचेन को देखकर वह समझ ...

अनोखी मित्रता - 9
द्वारा Payal Sakariya

     Continue......             Don't make friends            before understanding.            & Don't break friendship          ...

मासूम की बद्दुआ अंतिम भाग
द्वारा S Sinha

   Part 2 अंतिम भाग  - कहानी के अंतिम भाग में पढ़िए शिखा को क्यों लगा कि उसे मासूम की बद्दुआ लग गयी है  ...       कहानी -  मासूम की बद्दुआ  ...

Every couple's तू तू में में in quarantine
द्वारा Chandani

Every Couple's तू तू में में in quarantine: गुजराती शायद भूखे रेह सकते है पर बोले बिना?? एक दिन नहीं। मेरी सिया बहोत प्यारी और मासूम थी पर थी ...

Golden Jubilee
द्वारा Bharat Rabari

शीर्षक :- Golden Jubileeनोट :: - इस रचना को गांधीनगर के समाचार में प्रथम विजेता घोषित किया गया है।"हेनिश, क्या तुम रात को दस बजे से पहले वापस आ ...

अक्षयपात्र : अनसुलझा रहस्य - 1
द्वारा Rajnish

अक्षयपात्र : अनसुलझा रहस्य (भाग - 1) चारों तरफ दर्शक दीर्घा को देखते हुए.... विवेक बंसल: यश! कुछ भी हो, आज भी लड़कियों के बीच में तुम्हारा जादू बरकरार ...

मेट्रो
द्वारा Anil jaiswal

मेट्रो प्लेटफॉर्म पर आकर रुकी। दरवाजे खुले, तो रामलाल ने अंदर पैर रखा। आज मेट्रो में ज्यादा भीड़ नहीं थी। रामलाल ने चारों ओर नजरें दौड़ाईं। सारी सीटें फुल ...

हिंदीं का घर
द्वारा Sarvesh Singh

"हिंदी" भाषा की एहमियत सिर्फ़ 14 सितंबर के रूप में ही रह गया है?मैं नहीं लोगों की अंग्रेजी सीखने की होड़ बयां कर रहा है!इसमें संसय नहीं कि हिंदी ...

आत्मनिर्भरता - आत्मनिर्भरता जीवन की नई राह
द्वारा माही

मैडम हम आपको ऐसे लोन नही दे सकते, ना ही आपकी कोई नियमित कमाई है ना ही आप इनकम टैक्स भरते हो और ना ही आपके पति का कोई ...

दशहरे का मेला
द्वारा Kalyan Singh

मनुष्य की इंसानियत भी उस दिन जाग उठती है। जिस दिन उसे अपने कर्मों का ज्ञान हो जाता है। बस कोई सच्चा गुरु होना चाहिए सही पथ दिखाने वाला ...

कुबेर का खज़ाना
द्वारा Varsha

                      "कुबेर का खज़ाना" माँ ओ माँ....मेरी अच्छी माँ....दुलारी माँ......प्यारी प्यारी माँ.....! अरे....बसससस.....बोल क्या चाहिए? होओओओओ....माँ तुम्हें प्यार करूँ ...

मासूम की बद्दुआ - 1
द्वारा S Sinha

                                                          ...

ब्रेकअप
द्वारा Shivani Verma

"ऋषभ हम सिर्फ दोस्त हैं और दोस्त ही रहेंगे।" कृतिका के मुँह से ये जवाब सुनकर ऋषभ दुःखी हो गया लेकिन फिर भी उसने उम्मीद नही छोड़ी थी। ग्रामीण परिवेश ...

जिंदगी से मुलाकात - भाग 3
द्वारा R.J. Artan

फोन सोफे पर रखकर रिया चैन की सांस लेते हुए बैठ गई कि तभी बाहर से किसी की आवाज आयी।रिया ने बालकनी में जाकर देखा नंदिनी आवाज दे रही ...

तपती रेत पर
द्वारा rajendra shrivastava

लघुकथा--   तपती रेत पर                         --राजेन्‍द्र कुमार श्रीवास्‍तव,                     ‘’जब भी मुँह खोलेगी आग उगलेगी।‘’             ‘कोई ना भी बोले; तो भी दीवालों से बुदबुदा ...

मुकदमा
द्वारा Rajan Singh

छोटा सा कमरानुमा सिलनयुक्त कोर्ट रूम, मुज़रिम व मुज़रिमों को पेशी पे मिलने आये स्वजन. भीड़-भाड़ से गचागच था यह बदबूदार कमरा. एक नाज़िर, जज के स्टेज के ठीक ...

सफरनामा
द्वारा तेज साहू

सफरनामा- कभी कभी मेरे दिल मे ख़्याल आता है,की जैसे तुझको बनाया गया है,मेरे लिए...की धीमी आवाज़ में रेलवेस्टेशन के बाहर लाउडस्पीकर में संगीत बज रहा हैं.स्टेशन के अंदर डिस्प्ले ...

मेरी चाय......
द्वारा Gal Divya

                                            मेरी चाय.......वो बारिश के बाद पकोड़ो के साथ ...