Dream Love - Part 2 Hanika द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
  • रिश्तो की कश्मकश - 5

    आलिया,, ने मीत की तरफ देखा,, और मुस्कुरा कर बोली तो करने दीज...

  • ज्ञान

    सरस्वती एक प्रतिभाशाली लड़की है। एक दिन उनके पाठशाला में रास...

  • शून्य से शून्य तक - भाग 5

    5=== पर्वतों की शृंखला से सूर्य की ओजस्वी लालिमा...

  • मेन काम्फ

    किताबे, कालजयी हो सकती हैं.. और टाइम कैप्सूल भी। हर किताब ले...

  • Shyambabu And SeX - 36

    36 इंतज़ार   दरवाजा  एक कामवाली ने खोला, उसने उसे अंदर बिठाया...

श्रेणी
शेयर करे

Dream Love - Part 2

मानस जिसे आज तक कोई लड़की इंप्रेस नही कर पाई, वो एक सिंपल - सी लड़की का दीवाना हो गया। उसे हनिका एंजल की तरह लगती है।

और दूसरी तरफ हनिका अपने नए घर पहुंचती है, और अगले दिन होने वाले इंटरव्यू की तैयारी करती है।

अगले दिन .............

हनिका आज इंटरव्यू देने जाती है, ओर उसे जॉब मिल जाती है। और वो ये न्यूज अपनी बेस्ट फ्रेंड साक्षी को सुनाती है।
हनिका साक्षी को फ़ोन लगती है........
हनिका - साक्षी तुझे पता है में सलेक्ट हो गई ।
साक्षी - अच्छा! कॉन्ग्रेस यार।
हनिका - क्या हुआ तू खुश नही है। क्या हुआ तुझे.......
साक्षी - अ.....कुछ भी तो नहीं, ओर मैं खुश क्यू नही होऊंगी। मैं बहुत खुश हूं यार।
हनिका मुझे सिर्फ इतना बता क्या हुआ है तुझे।
साक्षी - मैने तुझ से कहा था ना वो............ मुझे वो बहुत पसंद है, पर मैं उसे कैसे बताऊं।
हनिका -ओफो! इतनी सी बात। तू टेंशन क्यू लेरी है। वो तुझे मोटिवेट करता है ना, तो बस! तेरी फीलिंग्स उसके सामने उसी के मोटीवेशन से आयेगी।
साक्षी - हां! तू सही बोल रही है।
हनिका - तू अपना ध्यान रखना, और इतना मत सोचा कर समझी। उसी की वजह से में तेरी लाइफ में आई हूं। तो तू ऐसे कैसे सोच सकती है की वो तुझे नहीं मिलेगा।
अच्छा सुन अभी बहुत सारा काम पड़ा है तुझे बाद में कॉल करती हूं।
साक्षी - ओके बाय! अपना ध्यान रखना।
हनिका - हां बिलकुल।

अगले दिन.........

हनिका स्कूल के लिए जाती है। वो 11th क्लास को मैथ्स पढ़ाती है। फर्स्ट डे उसका बहुत अच्छे से बीतता है। स्कूल से घर जाते टाइम हनिका को वही एयरपोर्ट वाला लड़का दिखता है। वो उसे इग्नोर कर के वहा से चली जाती है।

मानस वहा अपनी सिस्टर डिंपल को सरप्राइज़ देने आता है। डिंपल को स्कूल के अंदर से लेने के लिए मानस का मेनेजर जाता है। तब डिंपल मेनेजर से.......

डिंपल - आप यहां! मतलब भाई भी यहां है।
मेनेजर - हां! तुम्हे सरप्राइज़ देने आए है।
डिंपल - सच्ची........

डिंपल दौड़ते हुए अपने भाई के पास जाती है, और उनसे कहती हैं - "भैया आप यहां कब आए।" इतना कहकर डिंपल मानस के गले लग जाती है। मानस डिंपल के सर पर हाथ रख कर कहता है- "मैं अपनी छोटी गुड़िया को अकेला कैसे छोड़ दू। इसलिए जल्दी आ गया।
डिंपल - भाई! आज मुझे आप के साथ पूरी सिटी घूमना है।
मानस - अरे! पहले गाड़ी में तो बैठो।
डिंपल - हां!......
मानस - आइसक्रीम खाओगी।
डिंपल - हा.......
मानस - मिस्टर मेनेजर मेरी स्वीटहार्ट के लिए स्वीट सी आइसक्रीम लेके आओ।
मेनेजर - ओके सर! अभी लाता हूं। ये लो डिंपल।
डिंपल - भाई आप को पता है मेरे स्कूल में न्यू टीचर आई है।
मानस - अच्छा कौन।
डिंपल - उनका नाम मिस हनिका है और वो मैथ्स बहुत अच्छा पढ़ाते है। मुझे भी उनसे ट्यूशन करनी करनी है।
मानस - अच्छा। नही! तुम कही नही जाओगी। तुम्हे. ट्यूशन करनी है तो मेम को घर बुला लेंगे। Ok
डिंपल - ठीक है भाई! आप मेनेजर भैया से बोलो कि वो मेम से बात करे।