हाए मेरा वो पहला वाला प्यार - 1 Mehul Pasaya द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
  • The Mystery of the Blue Eye's - 6

    दरवाजा एक बुजुर्ग आदमी खोलता है और अपने चौखट के सामने नौजवान...

  • पागल - भाग 40

    भाग–४० मिहिर और निशी भी जल्दी राजीव के घर पहुंच गए । सभी राज...

  • जादुई मन - 15

    जैसे जाते हुए किसी व्यक्ति की गर्दन पर नजर जमाकर भावना करना...

  • द्वारावती - 34

    34घर से जब गुल निकली तो रात्रि का अंतिम प्रहर अपने अंतकाल मे...

  • डेविल सीईओ की मोहब्बत - भाग 6

    अब आगे, आराध्या की बात सुन, जानवी के चेहरे पर एक मुस्कान आ ज...

श्रेणी
शेयर करे

हाए मेरा वो पहला वाला प्यार - 1



नमस्ते दोस्तो हम एक बार फिर लेकर आ गए हैl और कहानी है राहुल, शिवानी, और जीया की। तो चलिए शुरू करते है।


राहुल बोला - " मां मां कहा हो यार क्या कर रही हो। इतनी क्यू लग गई। नाश्ता लेकर आओ ना मुझे जल्दी जाना है। "


राहुल की मां बोली - " हा बेटा ला रही हु। थोड़ा सब्र कर लो। और रोज तो देर से जाते हो। आज क्या ऐसा है की वहा तुम्हे जल्दी जाना है। "


राहुल बोला - " हा ठीक है मां पर प्लीज थोड़ा जल्दी करोवाकई मुझे बे हद देर हो रही है। "


राहुल की मां बोली - " हा बेटा हो गया। ये लो और हा थोड़ा आराम से करना नाश्ता गरम है। ठीक है जीभ जल जायेगी। "


राहुल बोला - " हा मां ठीक हैl जरूर आप फिक्र न करे में बिल्कुल गरम नही खाऊंगा ठीक है। "


कुछ देर बाद।


शिवानी बोली - " यार चेतना ऐसे कैसे चलेगा तुम हर बार रूठ जाती होl कभी तो अच्छे से रहा करो। वो तो में तुम्हे तुरंत माना लेती हु। वरना मेरी जगह कोई और होता. तो तुम्हे देखता तक नहीं। "


चेतना बोली - " अरे माय डीयर फ्रेंड इस लिए। तो में तुमसे रूठ जाती हु। लेकिन में तुमसे नहीं रूठूंगी! तो किस्से रुठूंगी! आखिर मेरी दोस्त जो ठहरी मेरी। "


शिवानी बोली - " हा दोस्त हु। वो तो ठीक है। पर कल को जाके में मार गई तो क्या करोगे। "


चेतना बोली - " ऐसी बाते ना अक्षर कमजोर दिल वाले ही कर सकते है। और तुम्हारा दिल कब से कमजोर बन गया। वरना तुम बहुत बड़ी बड़ी बाते करती रहती हो। में ऐसी हु में वैसे हु। में ये कर सकती हु में वो कर सकती हु वगेरा वगेरा। "


शिवानी बोली - " हा ठीक है। अब ऐसा नहीं कहेंगे। चलो अब घर चलते है। मुझे एक जरूर काम के लिए बाहर भी जाना है। "


चेतना बोली - " वैसे हमे नही ले जाओगे क्या साथ में! मुझे भी आना है। प्लीज मुझे भी ले चलो ना साथ मे। "


शिवानी बोली - " हा ठीक है तुम भी चलो और क्या! एक से भले दो। दोनो का साथ रहेगा तो और मजा आयेगा। रेडी रहना में तुमको शाम को फोन करूंगी तो साथ में निकल जायेंगे ठीक है। "


चेतना बोली - " हा ठीक है। में तैयार रहूंगी। तुम फोन करना में फोन का वैट करूंगी। "


शिवानी बोली - " हा ठीक है। अब चलो अपने अपने घर जाते है। और तैयारी करते है। टाइम बहुत कम है। कही देर ना हो जाए। चलो जल्दी जाकर रेडी रहो। "


कुछ देर बाद।


जीया बोली - " हेल्लो मिस्टर विहान कैसे हो। आज कल दिखते ही नही हो। क्या हुआ सब ठीक तो है ना! बताओ तो मुझे। "


विहान बोला - " नही जीया ऐसा कुछ भी नही है। सब ठीक ही है। वो तो में काम से बाहर गया था। इस लिए आपको दिखा नही होगा। बाय द वे आप बताओ सब ठीक है ना। अंकल आंटी और ब्रदर आपके। "


जीया बोली - " हा मिस्टर विहान मम्मा पापा और भाई ठीक है. और में भी ठीक हु. और आज में एक लंबे वक्त के लिए घूमने जाने वाली हु. क्या आप हमारे साथ आएंगे! "


विहान बोला - " अरे जीया आप कहो और हम नही आए। ऐसा कभी हुआ है क्या! ऐसा हरगिज नहीं होगा कभी भी ठीक है। ये बताओ की जाना कब है। "


जीया बोली - " हा आज शाम को 8 बजे निकालना है। और हा मिस्टर विहान जरूरत मंद चीजे ले लीजिएगा। रास्ते में जरूरत पड़ेगी ठीक है। और एक दूसरी खास बात अपने फैमिली वालो से बात कर लीजिएगा। आप हमारे साथ आ रहे हो ठीक है। "


पढ़ना जारी रखे।