द्रोहकाल जाग उठा शैतान - 4 Jaydeep Jhomte द्वारा डरावनी कहानी में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
  • हीर... - 6

    अजीत को राजीव के साथ के अपने अतीत के बारे में बताते हुये अंक...

  • Hot romance - Part 26

    अवरुल लवस्टोरी..... वरदान विला में सुबह दोपहर 12 :00 pm... आ...

  • लागा चुनरघ में दाग़,--भाग(४२)

    अनुसुइया जी के जाने के बाद प्रत्यन्चा भागीरथ जी से बोली.......

  • उजाले की ओर –संस्मरण

    स्नेहिल नमस्कार मित्रों बहस हो गई उस दिन मित्रों के बीच और ज...

  • Shadow Of The Packs - 4

    जिन दो पुलिस वालो पर उस जानवर ने हमला किया था, उनमे से एक पु...

श्रेणी
शेयर करे

द्रोहकाल जाग उठा शैतान - 4

एपिसोड 4 एपिसोड 4

राजगढ़ महल:

राजा दारासिंह अपने सुख-कक्ष में पलंग पर आंखें बंद किये, पीठ तख्ते पर टेककर और पैर सीधे किये बैठे थे। उस पच्चीस फुट के चौकोर आकार के लिविंग रूम में तीन-चार लैंप जल रहे थे।

उन लालटेनों की लाल रोशनी कमरे की दीवारों पर पड़ रही थी, महाराज के चेहरे पर चिंता की छाया पड़ रही थी। उस लाल रोशनी में दीवारों पर बनी पेंटिंग्स सजीव लग रही थीं। वे आएंगे और उनमें अपने दांत गड़ा देंगे। वे सामने वाले व्यक्ति की रक्त वाहिका से खून चूसते हैं। महाराजा की आंखें बंद हो जाती हैं। वही मन में बेचैनी कहो या डर कहो, भयावह मंजर कल्पना से आँखों के सामने साकार हो उठा।

उन्होंने फूला हुआ, मछली के खरोंच वाला, नग्न शव देखा था जिसकी बेरहमी से हत्या की गई थी। और वही दृश्य महाराजा की आंखों के सामने एक खास तरह की कल्पना की भयावहता के साथ घूम गया। कमरे में गंभीर सन्नाटा अभी भी उस कल्पना को सता रहा था, और उस सन्नाटे में महाराजा के पास अपनी कल्पना को साकार करने का समय था। अजीब बात है। जो नहीं मिला, उस भयानक सन्नाटे को तोड़ना पड़ा, अन्यथा परिणाम घातक होता।

तभी दरवाजे पर दस्तक हुई और एक उत्साहजनक आवाज आई।

“महामहिम..!” वह अजीब सा सन्नाटा सचमुच उस आवाज से टूट गया। महाराजा की आंखों के सामने का अजीब दृश्य गायब हो गया क्योंकि मोमबत्ती बुझते ही धुआं हवा में फैल गया। महाराजा ने आवाज सुनकर अपनी आंखें खोलीं और आगे देखा। दरवाजे के बाहर कोई खड़ा था, जो बाहर प्रवेश की अनुमति का इंतजार कर रहा था। महाराज ने पहचान लिया और आवाज दी।

"आओ! अंदर आओ!" महाराज की आवाज सुनकर एक आदमी अंदर आया और सिर झुकाकर बोला।

“महाराज, महारानी नी!” वह सेवक आगे कुछ कहने ही वाला था कि उसी महाराज ने उसका हाथ हवा में उठाकर कहा।

"हम आ रहे हैं! आप आ रहे हैं!" महाराजा की बात सुनकर नौकर ने "जी" कहा और चला गया। महाराजा ने ठीक से पहचान लिया कि महारानी ताराबाई ने महाराजा को फिर से भोजन करने के लिए बुलाया है। महाराजा धीरे से अपने बिस्तर से उठे और खुले दरवाजे के पास पहुंचे। महल। उसने मुकुट अपने सामने मेज पर रखा और हाथ में तलवार लेकर दरवाजे से बाहर आया।

======================

रहजगढ़ गांव के गेट से लगभग तीस मिनट की दूरी पर एक जंगल था और जंगल के बाईं ओर रहजगढ़ नदी थी। कहने का तात्पर्य यह है कि नदी जंगल के बीच से बहती थी, जिसके दोनों ओर हरे-भरे पेड़ थे, जिसके कारण नदी हमेशा अंधेरे में डूबी रहती थी, जिसके कारण उस नदी का पानी लोगों के बीच काल जल के नाम से प्रसिद्ध था। राहजगढ़ के ग्रामीण। जैसे ही नदी दूसरे छोर को पार करती है, करीब 15 मिनट बाद जंगल में झाड़ियों के पास एक बड़ा हादसा हो जाता है।

एक गिरी हुई गुफा दिखाई दे रही थी। गुफा में प्रवेश करने का बड़ा दरवाजा अंधेरा था। अंदर कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। गुफा में प्रवेश करते ही वह कांपने लगा। गुफानुमा तहखाने की ओर जाती हुई पत्थर की सीढ़ियाँ दिखाई दे रही थीं। वो बीस-पच्चीस

पत्थर की सीढ़ियों से नीचे चलने पर नीचे पत्थरों से बना एक विशाल तहखाना दिखाई दिया। उस तहखाने में, पत्थर की दीवारों पर, चारों दिशाओं में पत्थर के खंभों पर, बहुत-सी लाल रंग की मशालें जल रही थीं। लेकिन उन जलती हुई मशालों की रोशनी में अंधेरा कालिख की तरह गहरा था। ऐसा लग रहा था जैसे अंधेरा प्राकृतिक नहीं था। और उन मशालों की रोशनी में सारे दृश्य दिखाई दे रहे थे। जैसे मकड़ियां, जहरीले सांप और पकड़े गए सांप शिकार की तलाश में जाल में। तहखाने में ऐसा अजीब सा सन्नाटा था कि साँपों की फुफकारने की आवाज सभी दिशाओं में गूँज रही थी। सफेद धुंध धीरे-धीरे बह रही थी। मानो वह सचमुच का शवगृह हो। चौकोर पत्थरों से बने तहखाने के बीच में कोहरे के बीच एक चौकोर पत्थर पर लकड़ी की एक कब्र रखी हुई दिखाई दी। लकड़ी की कब्र पर एक अजीब सी तस्वीर बनी हुई थी। चमगादड़ की एक तस्वीर, लेकिन चमगादड़ के शरीर का रंग गहरा नहीं, बल्कि खून की तरह लाल था, जैसे कि उसे खून से रंग दिया गया हो। और लाल रक्तपिपासु चमगादड़ की आंखों में दो स्लिट्स करीब से देखने पर पीले रंग की चमक बिखेर रहे थे। दुष्ट चमगादड़ के जबड़े से भी काँटे जैसी गंध आ रही थी, नुकीले दाँत निकले हुए प्रतीत हो रहे थे। यदि उस कब्र पर चित्र इतना डरावना है, तो बात चूक जाएगी! तो अंदर क्या होगा? अंदर क्या होगा? इसके बारे में सोचने मात्र से ही रूह कांप उठती है!
======================

आसमान में काले बादलों के बीच सिर्फ दो बादल आपस में रगड़ खा रहे थे

धड़-धम एक विशेष प्रकार की कान भेदी ध्वनि है

हज़ारों चमकीली बिजलियाँ चमकीं। उस बिजली की तेज रोशनी ने क्षण भर के लिए नीचे के अँधेरे को दूर कर दिया। और फिर, जैसे ही वह रोशनी गायब हो गई, अंधेरे ने फिर से अंधेरे की चादर अपने ऊपर खींच ली। रात के कीड़े चहचहा रहे थे। अँधेरे में पीली रोशनी फेंकती काजवा टोली बारिश के साथ चली जा रही थी। घोड़ागाड़ी जंगल के पेड़ों के बीच से खड़खड़ाहट की आवाज करती हुई रहजगढ़ की ओर जा रही थी। गाड़ी का ड्राइवर अपनी छड़ी से घोड़ों को मार रहा था। अँधेरे में तेजी से दौड़ना, तेज चीख के साथ कोहरे के बीच से अपना रास्ता बनाना। ड्राइवर

दोनों तरफ लालटेन की लाल रोशनी उसके जख्मी चेहरे पर क्यों पड़ी, लेकिन इतना जख्मी?

जंगल में गिरे हुए काले-नीले पेड़ों की आकृति पर नजर डालते हुए ड्राइवर घोड़ागाड़ी को तेज गति से चला रहा था। छम-छम की आवाज भी तेजी से सुनाई दे रही थी। घोड़ागाड़ी के पीछे डिब्बे के अंदर दो नवविवाहित अंग्रेज जोड़े बैठे थे।


क्रमशः