अनोखी मित्रता - 4 Payal Sakariya द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

अनोखी मित्रता - 4

हमने देखा था कि ( दिशा पढ़ रही होती हैं , तभी फोन की रिंग बजती है । ) अब आगे .....

दिशा screen पर देखे बिना फोन उठाकर कहती हैं कौन ...? 🙄 आकाश कहता है - ये अच्छा है अपना काम हो गया तो भूल गए 😏। दिशा नाम देखकर कहती है ,ohh shit 😓। नहीं-नहीं ऐसा कुछ नहीं है , मैंने बिना देखे ही फोन उठा लिया था । हां बस बस तुम लड़कियां बहाने बनाने में expert. होती है । वैसे क्यूं हमें याद किया ...? 🤔 तुम्हें thanks कहने के लिए । अच्छा किया जो कह दिया वरना मैं तो भुखि ही मर जाती । आकाश कहता है - अरे yar not in that sense ... आपने मेरी बात मानी ...? तो फिर में आपका sense समझने की कोशिश भी क्यूं करूं ....😎? और बताओ क्या कर रही है ...? मेरे Favourite Pizza खा रही हु । अभी ...? तीन बजे ,🙄 ..? हां में थोड़ी आपके जैसी रहीझ खानदान की हूं। आकाश तुरंत फोन काट देता‌ है । उसे यह सुनना बिल्कुल भी पसंद नहीं था ।
शाम को श्रेया वापस आ गई। दोनों ने खाना खाया और फिर दिशा ने कहा चल आज तो जाएंगे ने walking के लिए ....? श्रेया कहती हैं ठीक है चलो । दोनों रास्ते पर चल रही थी । दिशा को रात में चलना अच्छा लगता था । तो वो हररोज walking के लिए निकलते थे । दिशा कहती है देख तेरा सफर तो पुरा हुआ । आज नहीं , आज विवेक नहीं आने वाला , उसने मुझे सुबह ही फोन करके बताया था कि वो उसके पापा के साथ बाहर जाने वाला है । फिर भी मुझे यकीन है उस bench के पास पहुंचते ही उसका फोन आएगा । नहीं आएगा । और अगर आया तो में जो कहुगी वो तुझे करना पड़ेगा ।मगर तु कैकेयी की तरह उसका गलत फायदा मत उठाना । दिशा गुस्सा दिखाकर कहती हैं मे तुम्हें ऐसी लगती हूं । अरे ..... बाबा मजाक कर रही हूं। जैसे ही वहां पहुंचते हैं , विवेक का फोन आता है । दिशा कहती हैं 😎देख मैंने कहा था ना तुझे । हां ज्ञानी दिशा 👼 । अब दिशा आगे चलती है ।‌‌‌ थोड़ा आगे चलकर कोई उसकी आंखें बंद करता है ।
" दिशा कहती हैं आरुष मुझे पता है तुम्हीं हो । वो उसकी कलाई पकडती है , उसने आरुष को watch gift की थी वो आरुष ने पहनी हुई थी । लेकिन इस हाथ की कलाई में वो watch नहीं थी । इसी लिए दिशा कहती हैं - " समर तुम हो ...? " फिर भी वो आंखों से अपने हाथ नहीं ले रहा था । दिशा सोचती है 'कौन हो सकता है ...?' अचानक से वो धीरे से चीखती है , आउच ..... 😱 वो व्यक्ति सामने आकर पूछता है 'क्या हुआ ...? दिशा - ' चींटी ने काटा !😜 वो बहुत हसती है । सोरी .... आकाश में तो बस मजाक कर रही थी । लेकिन आप यहां कैसे ...? क्यूं ये रोड तुम्हारा है ....? नहीं-नहीं हम थोड़ी ना आपके जैसे अमीर है , की नजर पड़ी तो वह चीज हमारी हो जाती है । आकाश बिना कुछ कहे चलने लगता है ।
दिशा - अरे रुको तो सही , कहकर रोकती है ।
आकाश - अगर तुम्हें मेरे साथ बात करना पसंद नहीं है । तो directly कहो ना ...
दिशा - एसी कोई बात नहीं है , वो कान पकड़कर छोटे बच्चे की तरह कहती हैं सोरी ...
आकाश बस उसे देखता रहा । और कहता। हे पता नहीं तुझे तेरे पापा ने क्या खिलाकर बड़ी की हैं ...! दिशा उदास हो जाती है । आकाश को दिशा के बारे में कुछ भी नहीं पता था । Oyee. क्या हुआ ...? कुछ नहीं ...
चलो यहां बैठो - कहकर दोनों bench पर बैठ गए ।
आकाश पूछता है क्या करती हो तुम ...? मैं management की पढ़ाई कर रही हूं । और आप ...? मेरा तो बस एक ही target " I want to be a reputed cricketer . ☺️ Ohhh great 👍let's wait and watch ..... आकाश कहता है " Yes you can " इतना भरोसा है खुद पर ...? क्यूं तुझे नहीं है अपने सपनों पे ...? दोनों कुछ नहीं बोलते है . दिशा कहती हैं again sorry for the afternoon 🙁. It's ohk ...
तभी श्रेया आती है । दिशा के पास बैठ जाती है । और कहने लगी - दिशा time कया हुआ है ..? 10 : 15 we are 15 minutes late according to your schedule . और ये क्या नया friend बना लिया और वो भी boys category में और मुझे बताया तक नहीं । कहकर रुक जाती है ।
दिशा - हो गया ??🤓
श्रेया -हां
दिशा - नहीं अगर कुछ बाकी है तो बोल दे ..!
नहीं तु बोल ।
क्या कुछ भी बोले जा रही थी । Friends और वो भी boys category में ..? अगर इनकी girl friend ने सुन लिया होता तो ...? और हां ये आरुष के साथ ही cricket team में है । श्रेया को खड़ा करके कहती हैं चल बाकी की list internet connect करके update कर देती हूं। आकाश तो बस उसकी बात करने की style ही देखता रहा ।
दिशा घर जाकर अपनी पढ़ाई करने बैठ जाती है । उसके सपने उसके लिए बहुत मायने रखते हैं । वो एक डायरी खोलती है उसमें जं
आकाश हंसकर कहता है - messages ..?
उसे तो chatting कहते हैं Mr. ....! 🤗
ठीक है byee
Bby
दिशा सुबह 5.00 बजे आरुष को फोन करके पूछती है - उठ गए तुम ..? आरुष - नहीं buddy today I'm late ..
बाजु में चल रहा रवि कहता है दिशा झूठ बोल रहा है आरुष हम लोग stadium में है । आकाश भी वहां पे आ गया होता है । आरुष कहता है दिशा तुने बस आदत बना दी है खुद तो उठ जाती है और हमें भी सोने नहीं देती । चल में फोन रखता हू।
आकाश सोचता है ये लड़की कैसी है
दिशा को आकाश का फोन आता है दिशा कहती है में अभी lecture attend कर रही हूं । बाद में फोन करुंगी । कहकर फोन काट देरंती है । आकाश कहता है अजीब है जब भी फोन करता हूं कोई ना कोई बहाना बनाकर टाल ही देती है ।

रेट व् टिपण्णी करें

Janki

Janki 2 साल पहले

Janki Suthar

Janki Suthar 2 साल पहले