बेवजह... भाग ४

अब तक....

देखते ही देखते नौ महीने बीत गए... सरला को बहोत तेज़ दर्द होरहा था, किसीभी वक़्त प्रसर्ग हो सकता था, सभी लोग बहोत उकसूक्त थे... सरला को बार बार विक्रम से हुई वह बातें याद आ रही थी, विक्रम शहर गया था, यह बहोत ही सोचा समझा नुस्खा था, विक्रम की माने कुछ दिनों के लिए विक्रम को शहर भेज दिया ताकि प्रसर्ग के वक़्त वह यहां मौजूद ना हो और जो लड़की पैदा हो तो उससे आसानी से रास्ते से हटाया जाए....

अब आगे....
इंतज़ार खत्म हुआ, दाईमां कमरे से बाहर आई... और उन्होंने धीमे शब्दों मै उदासी भरे स्वर मे कहां....
 "छोरी हुई है"....
यह सुनकर सरला की सास का चेहरा उत्तरगया साथ ही घर के बाकी सदस्य भी यह बात सुनकर ना खुश हुए...
"अरे बींदणी जा उस छोरी ने ले आ"... सासु ने सरला की जेठानी से कहा... 
सरला की जेठानी कमरे मे आयी, सरला अपनी बच्ची को निहार रही थी, उसकी आँखों से खुशी झलक रही थी, मगर यह खुशी मानो सिर्फ दो पल की थी, सरला ने जैसे ही अपनी जेठानी को सामने देखा वह समझ गयी...
सरला की जेठानी चुप चाप सरल से नजरे चुराते हुए सरला के करीब आयी और उसके पास से बच्चेको अपने हाथों में लेलिया....
ये देखकर सरला चिल्ला उठी और उसकी जेठानी से बच्ची को वापस लेने लगी... 
सरला की जेठानी बच्ची को लेकर बाहर के कमरे में आई और सरला रोटी हुई उनके पीछे पीछे...
"बींदणी रोने धोने का तमाशा करने की कोई जरूरत नही है, थारी यह छोरी म्हारा वंश आगे नही बढ़ा सकती, एक दिन थारे ही खांडे पर बोझ बनकर रे जावेगी ये".... सासु
"ना म्हारी छोरी म्हारे लिए बोझ ना है, मैं उससे कुछ नही होने दूंगी"... सरला
"देख बींदणी ज़िद ना कर".... सासु
"अगर आप ने म्हारी छोरी को कुछ किया तो मैं भी जिंदा नही रहूंगी, मर जाऊंगी मैं"... सरला
यह बात सुनकर सरला की सास ने कहा... गुस्से में आगबबूला होकर कहा
"बाहर फेक्डो इससे इसकी बच्ची के साथ, आज के बाद मुझे इसकी शक्ल भी नही देखनी, म्हारे विक्रम के लिए में इससे घनी अच्छी लड़की लाऊंगी"...
और घर के नौकरों ने सरला को घसीटते हुए घर से बाहर निकाल दिया और सरला की जेठानी ने बाहर आकर सरला के हाथ में रोते हुए उसकी बच्ची को रख दिया और मुड़के घर के अंदर चली आयी.... 
घर का दरवाजा बंद होगया, सरला वही पडी पडी रो रही थी, अपनी बच्ची को सीने से लगाकार सरला जोर जोर से रोये जा रही थी, मगर वहा उसकी पुकार सुनने वाला कोई नही था...
तभी आसुओं से झीनी आँखों को एक धुंदली सी परछाई आपने करीब आती हुई दिखी...
विक्रम खेतो से काम करके लौट रहा था, दूरसे उसने सरला को घर के बाहर इस हालत में देखा और देखते ही... वह दौड़ के सरला के पास आकर बैठ गया...
सरला कुछ बोले उसके पहले विक्रम ने सरला को एक तरफ से अपने सीने से लगा लिया... और फिर सरला के आंसू पोछकर उससे चुप करवाया...

"कुछ कहने की जरूरत नही है... बस चुप होजा, जितना रोना था रोलिया, बस अब और नही"... विक्रम
विक्रम ने अपनी बच्ची को गौड़ में लिया और प्यार से देखते हुए कहा... 
"जीविका म्हारी लाडो"....
विक्रम ने अपनी बच्ची को गोद में लिया और अपनी पत्नी के साथ वहा से चलने लगा... तभी सरला ने कहा
"माँ से".....
विक्रम ने सरला को बीच मैं ही टोक दिया और कहा.... 
"जिस घर मे मेरी बच्ची के लिए जगह नही उस घर की दहलीज पर मुझे पाव भी नही रखना"...
और विक्रम अपने परिवार को लेके वहां से चल निकला...
                                                                           ★
ठक ठक की आवाज़ से सरला जाग गयी, सरला समझ गयी कि दरवाज़े पर ठाकुर होगा... मारे घबराहट के सरला पसीने मैं लटपट होचुकीथी, सरला वही घबराहट के मारे बैठी रही, सरला की हिम्मत ही नही हो रही थी की दरवाजे को खोल सके...
ठाकुर के आदमियों ने दरवाजा तोड़ दिया... सरला वही सामने बैठी हुई थी, ठाकुर दरवाजा टूटते ही अंदर आया और सरला के करीब आकर उसने कहा... 
"किधर है थारी छोरी"...
सरला ने उसपर हँसकर जवाब दिया... "दूर इस पाप की नगरी से बहोत दूर चली गई वो"...
यह सुनते ही ठाकुर ने सरला को कसके तमाचा मारा और सरला नीचे गिर गयी...
मगर सरला की आवाज़ बंद नही हुई, सरला चीख चीख कर कह रही थी...
"तुझे वह कभी नही मिल पाएगी, नीच है तू सड़ सड़ करके मरेगा तू"...
ठाकुर गुस्से मे लाल हुआ जा रहा था... और गुस्से मैं ठाकुर ने कहा
"बहोत जुबान चल रही है तेरी... इससे हमेशा के लिए खामोश करदो"...
ठाकुर यह कहकर वहा से निकल गया... और ठाकुर के आदमियों ने सरला को उसके घर के अंदर ही बंद करके घरको आग लगा दी.. 
सरला की चीखें आसमान छू रही थी मगर उसकी जान बचाने वाला वहा कोई नही था और कुछ ही देर मैं सरला की चीखें खामोश होगयी, आग की लपटों में वह चीखे कही खो गयी....
...............................................................To be continued......................................................

***

रेट व् टिपण्णी करें

डॉ अनामिकासिन्हा 2 महीना पहले

Sudha Mishra 4 महीना पहले

Annu 5 महीना पहले

Urvi Shah 5 महीना पहले

Surekha 5 महीना पहले

शेयर करें