हिंदी हास्य कथाएं मुफ्त में पढ़ें और PDF डाउनलोड करें

कामवाली बनाम घरवाली - (व्यंग्य)
by Shobhana Shyam
  • (9)
  • 316

एक होती है घरवाली ,एक होती है बाहर वाली लेकिन इनके बीच एक होती है काम वाली | ऐसा कहने का मतलब यह कदापि नहीं है कि घरवाली काम ...

दो बाल्टी पानी
by Sarvesh Saxena Verified icon
  • (14)
  • 388

"अरे नंदू… उठ के जरा देख घड़ी में कितना टाइम हो गया है " मिश्राइन ने चिल्ला कर कहा| "अरे मम्मी सोने भी नहीं देती सोने दो ना" नंदू अपनी ...

वर्षा बुलाने का मूल मंत्र
by Dr Narendra Shukl
  • (2)
  • 166

‘‘इधर उत्तरी क्षेत्र में वर्षा बिल्कुल नहीं हो रही । सूखे की आंशका बनी हुई है ।‘‘  . . .  सामने भीड़ - भाड़ वाली सड़क पर देखता हूं ...

प्याजी दर्द एक हकीकत
by Rahul Avinash
  • (2)
  • 114

प्याजी फ्लेवर, प्याजी रंग, प्याजी हिट, प्याजी गोल, प्याजी अदाएं, प्याजी वफाएं, प्याजी दर्द, प्याजी....... वगैरह वगैरह......???????? क्या सोच रहे हैं? कहीं आप ये तो नहीं सोच रहे हैं ...

एक प्याली चाय और शौकीलाल जी - भाग 3
by Krishna manu
  • (5)
  • 146

बीवी का प्रस्ताव सुन शौकीलाल जी भीतर तक कांप उठे। हजार रुपए बड़ी मुश्किल से उन्होंने घर खर्चे में कटौती कर बचाये थे ताकि कई महीने पूर्व शर्मा जी ...

गुरुधर्म
by Bhupendra Dongriyal
  • (3)
  • 144

                                                   गुरुधर्म                             ...

भू - गोल (अर्थात दुनियां गोल हैं )
by Deepak Bundela Moulik
  • (2)
  • 147

भू- गोल अर्थात दुनिया गोल है...!जी जनाब, ये बात सभी जानते है के दुनिया गोल है...जिसे हम सीधे से शब्दों में बिना किसी लाग लपेट के कही भी ठोक देते ...

एक प्याली चाय और शौकीलाल जी - भाग-2
by Krishna manu
  • (3)
  • 226

-' संबंध है। इसलिए तो मैं कह रही हूं कि यदि आप टीवी,रेडियो, अखबार आदि से नाता रखते तो चाय जैसी बेकार  चीज के लिए फिजूलखर्ची करने के बारे ...

आपको क्या तकलीफ है
by dilip kumar Verified icon
  • (2)
  • 213

"आपको क्या तकलीफ है "(व्यंग्य)रिपोर्टर कैमरामैन को लेकर रिपोर्टिंग करने निकला।वो कुछ डिफरेंट दिखाना चाहता था डिफरेंट एंगल से ।उसे सबसे पहले एक बच्चा मिला ।रिपोर्टर ,बच्चे से-"बेटा आपका ...

प्यार बनाम गणित
by Dr. Vandana Gupta Verified icon
  • (5)
  • 331

     एक खूबसूरत, चुस्त-दुरुस्त और कुछ कुछ सम्मिश्र संख्या जैसे दिखते लड़के को अपनी ओर घूरते देख घबरा गई। मेरे दिल के समुच्चय में एक नया अवयव दाखिल ...

एक प्याली चाय और शौकीलाल जी - भाग-1
by Krishna manu
  • (2)
  • 312

किस्सा उन दिनो का है जब बिल्ली के भाग से सिकहर टूटा था। कम्पनी के एक कर्मचारी को लम्बी अवधि के लिए अवकाश जाने के कारण रिक्त हुए स्थान ...

पाँच सवाल और शौकीलाल जी - 3
by Krishna manu
  • (6)
  • 283

शौकीलाल जी ने लापरवाही से जवाब दिया-' अरे छोड़ो यार, अब तो लोक सेवा आयोग, बैंकिंग सेवा आदि त्यागकर लड़के इसी की तैयारी करने लगे हैं।  अमीर बनने का ...

गर्लफ्रैंड
by The Real Ghost
  • (5)
  • 869

नाटक : गर्लफ्रैंडरोहित एवं मीनाक्षी दोनो एक बड़ी IT फर्म में पिछले 2 सालों काम कर रहे है दोनो उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं रोहित के जॉइन करने ...

राज दुलारी
by Ajay Amitabh Suman Verified icon
  • (5)
  • 928

इस प्रस्तुति में मैंने अपनी चार कविताओं को शामिल किया है।(1)   राज दुलारी    सुन ले मेरी राज दुलारी, मेरे बच्चों की महतारी। क्यों आज यूँ भूखी रहती, ...

चली है बारात
by Dr Narendra Shukl
  • (6)
  • 388

27 नवंबर को विवाह समारोह में शामिल होने के लिये मैं चार स्थानों से आमंत्रित था । शादियां क्रमश ;  ‘घमासान भवन , ‘संग्राम भवन , ‘मेलमिलाप भवन , ...

पाँच सवाल और शौकीलाल जी - 2
by Krishna manu
  • (1)
  • 251

लंबे डग भरते हुए शौकीलाल जी घर आये। मैं भी साथ था। घर आकर उन्होंने बड़ा अधीर होकर  टीवी चलाया। फिर देखने में ध्यान मग्न हो गए। उनकी अधीरता ...

अफसर का अभिनन्दन - 30
by Yashvant Kothari Verified icon
  • (5)
  • 227

बधाई  से आर आई  पी तक                            यशवंत कोठारी    इन दिनों सोशल मीडिया पर जिन  शब्दों का सब से ज्यादा मिस यूज हो रहा है उन में इन ...

ये कैसे हुआ
by dilip kumar Verified icon
  • (3)
  • 270

"ये कैसे हुआ"  (व्यंग्य)फ़ांका मस्ती ही हम गरीबों की विमल देखभाल करती हैएक सर्कस लगा है भारत में जिसमें कुर्सी कमाल करती है "।उस्ताद शायर सुरेंद्र विमल ने जब ये पंक्तियां ...

पाँच सवाल और शौकीलाल जी - 1
by Krishna manu
  • (2)
  • 412

             शौकीलाल जी के बढ़ते कदम में  मैंने बेड़ी डाल दी। ज्योंही  वे मेरे क्वाटर के सामने से गुजरने लगे, मैं उन्हें घेर कर ...

अफसर का अभिनन्दन - 29
by Yashvant Kothari Verified icon
  • (3)
  • 277

वन  लाइनर ,फन लाइनर ,गन लाइनर :फेस बुकी टुकड़े                            यशवंत कोठारी   1-इधर मैने किताब बेचने के बारे में नया सोचा -किसी संपादक को किताब दो,फिर धीरे से ...

महंगाई ने मारा हमें ।
by Dr Narendra Shukl
  • (6)
  • 445

रात मैंने एक स्वपन्न देखा । मैंने देखा कि एक 25 - 30 वर्ष का युवक हाथ में चाकू लिये मेरी ओर बढ़ा आ रहा है । मैंने हड़बड़ा ...

शौकीलाल जी का खत चोर जी के नाम - 3
by Krishna manu
  • (3)
  • 276

हे  चोर महाराज, पत्र-पत्रिकाओं में पढकर, अखबारों में बांचकर,  दूरदर्शन में झाँककर मैं ज्यों-ज्यों आप के कारनामो, करिश्मों का अवलोकन करता गया, मेरे सामने आप की महानता का 'पर्दाफाश' ...

अफसर का अभिनन्दन - 28
by Yashvant Kothari Verified icon
  • (1)
  • 221

सुब्रहमण्य भारती और भारतीय चेतना यशवंत कोठारी   भारतीयता का सुब्रहमण्य भारती की कविताओं से बड़ा निकट का संबंध रहा है। वास्तव में जब सुब्रहमण्य भारती लिख रहे थे, ...

अफसर का अभिनन्दन - 27
by Yashvant Kothari Verified icon
  • (2)
  • 267

प्रेस नोट की राम कहानी                                                                                       यशवन्त कोठारी             इस क्षण भंगुर जीवन में सैकड़ो प्रेसनोट पढ़े। कई लिखे।छपवाये, मगर पिछले दिनो एक ऐसे प्रेस नोट से पाला ...

गंगा
by Raje.
  • (5)
  • 815

           गंगा। जब कभी यह शब्द, हमारी या किसी की भी जुबान पर आता है। हमारे मनोमस्तिस्क मे एक ही भाव उत्पन्न होता है।गंगा यानी- पवीत्र, ...

अफसर का अभिनन्दन - 26
by Yashvant Kothari Verified icon
  • (2)
  • 265

 प्रभु !हमें कॉमेडी से बचाओं                                यशवंत कोठारी इस कलि का ल में वर्षा का तो अकाल है मगर कॉमेडी की बारिश हर जगह हो रही हैं ,क्या अख़बार ...

मेंरी प्रेम कहानी-मेड फॉर ईच अदर
by राजीव तनेजा
  • (3)
  • 578

"मेरी प्रेम कहानी-मेड फॉर ईच अदर""हैलो"... "मे आई स्पीक टू मिस्टर राजीव तनेजा?" "यैस!...स्पीकिंग" "सर!..मैं'रिया' बोल रही हूँ 'फ्लाना एण्ड ढीमका' बैंक से"  "हाँ जी!...बोलिए"  "सर!...वी आर प्रोवाईडिंग होम लोन ऐट वैरी रीज़नेबल रेटस"  "सॉरी ...

शौकीलाल जी का खत चोर जी के नाम - 2
by Krishna manu
  • 338

 मैं शौकीलाल जी के निवास पर जा धमका। उस वक़्त जनाब बाथरूम का आनंद उठा रहे थे। बाथरूम से आ रही गुनगुनाने की स्वर लहरी उनके आनंद मग्न होने ...

ये वकील दुनिया में नाम कर जायेगा
by Ajay Amitabh Suman Verified icon
  • (7)
  • 361

ये कविता एक बेईमान वकील को ध्यान में रखकर बनाई गई है . दरअसल वकालत न्याय की रक्षा करने के लिए बनाया गया था . इसका उद्देश्य कमजोरो को ...

अफसर का अभिनन्दन - 25
by Yashvant Kothari Verified icon
  • (3)
  • 255

कला- हीन कला केंद्र                                   यशवंत कोठारी हर शहर में कला केन्द्र होते हैं ,कलाकार होते हैं और कहीं कहीं कला भी होती है.रविन्द्र मंच,जवाहर कला केंद्र ,भारत भवन,मंडी हाउस ...