बुधवार का दिन Gurmit Bedi द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
शेयर करे

बुधवार का दिन


बुधवार का दिन

गुरमीत बेदी


© COPYRIGHTS

This book is copyrighted content of the concerned author as well as MatruBharti.

MatruBharti has exclusive digital publishing rights of this book.

Any illegal copies in physical or digital format are strictly prohibited.

MatruBharti can challenge such illegal distribution / copies / usage in court.

बुधवार का दिन

फोन की घंटी बजते ही उसने बडी अधीरता से रिसीवर उठाया। जैसे उसे पहले से ही मालूम था कि फोन किसका हो सकता है। ष्सॉरी सर! आप इंतजार कर रहे होंगे। लेकिन मैं यहाँ काम से निजात नहीं पा सकी हूँ। आप शाम को कितने बजे तक अॉफिस में बैठते हैं। मैं साडे चार बजे तक पहुँच सकती हूँ। फोन पर कह रही थी।

मैं सवा पाँचदृसाडे पाँच बजे तक अॉफिस में ही हूँ। आप इसी बीच कभी भी आ सकती हैं। कह कर रिसीवर रखते हुए उसके होठों पर मुस्कराहट खिल उठी। उसने सामने दीवार घडी की तरफ देखा। उस समय दोपहर के दो बज रहे थे। साडे चार बजने में अभी अडाई घंटे बाकी थे। जिस जगह वह नौकरी करती थी, उस जगह से उसके अॉफिस का पैदल रास्ता मुश्किल से दस मिनट का था। अगर वह साडे चार बजे अपने अॉफिस से निकल पडे तो ज्‌यादा से जयादा पौने पाँच बजे तक यहाँ पहुँच सकती है। वह हिसाब किताब लगाने लगा।

फिर उसने घंटी बजा कर चपरासी हेमराज को बुलाया और उसे सौ रुपए का नोट थमाते हुए कहादृ ष्देखो मुझ से मिलने कोई आ रहा है। तुम साडे चार बजे जाकर कोल्ड ड्रिंक ले आना और साथ ही बडिया से बिस्कुट भी।

सर कोल्ड ड्रिंक कौन सा लाऊँ? उसने नोट हाथ में लेते हुए पूछा।

पैप्सी ले आना या फिर लिम्का। पी कर गले से धुआँ भी तो निकलना चाहिए। वह उसे हिदायत देते हुए बोला।

हेमराज के बाहर जाते ही कैशियर ने भीतर दस्तक दी।

सर, मैंने सोमवार को नहीं आना है। आप इन बिलों पर हस्ताक्षर कर दें तो कश्मीरा सोमवार को पैसे ड्रॉ करवा लेगा। टैक्सी वालों की भी काफी पेमैंट देने को हो गई है। उनके फोन भी आने लगे हैं। कुछ पेमैंट आप की भी है।ष् कहते हुए उसने बिलों की फाइल उसके सामने रख दी।

उसने आँख मूँद कर बिलों पर हस्ताक्षर करने शुरू कर दिए। वह आज सारे काम जल्दी से निबटा लेना चाहता था, ताकि साडे चार बजे के बाद वह पूरी तरह फुरसत में हो और तब कोई फाइल उसके सामने न लाई जाए। इसी बीच टेलीफोन की घंटियाँ थोडी थोडी देर में घनघनाती रहीं। जयादातर फोन पत्रकारों के थे, जो यह जानना चाह रहे थे कि आज कौनसा प्रेस नोट दे रहे हो। कुछ फोन फालतू किस्म के थे। कई फोन ऐसे भी आए, जिसमें उसके हैलो कहते ही दूसरी तरफ से फोन काट दिया गया। उसे याद आया कि एक लडकी ने उसे कुछ दिन पहले कहा था कि वह सिर्फ उसकी आवाज सुनने के लिए ही फोन करती है। तब से उसे लगने लगा कि अॉफिस में आई हर ब्लैंक कॉल उसी लडकी की होती है। उस लडकी ने यह बात उसे इतनी साफगोई से कैसे कह दी थी कि वह फोन पर सिर्फ उसकी आवाज ही सुनना चाहती है, इस सवाल को लेकर वह कई बार माथापच्ची कर चुका था और आज वह फिर से इस सवाल के भँवर में नहीं उलझना चाहता था।

आज उसे इंतजार था घडी की सूइयों के साडे चार के गणित तक पहुँचने का। थोडीदृथोडी देर बाद उसकी निगाहें दीवार घडी की ओर उठ जातीं। कहीं सेकंड का समय बताने वाली सूई की चाल आज धीमी तो नहीं पड गई। यह मुगालता होते ही वह अपनी घडी से दीवार घडी के समय का मिलान करने लगता। दोनों में समय एक जैसा पाकर उसकी बेचौनी बड जाती।

जैसे ही दीवार घडी ने साडे चार बजे का समय दर्शाया, रिवॉलविंग चेयर के सहारे घूमते हुए उसने अपने कमरे के प्रवेश द्वार की ओर पीठ कर ली और खिडकियों का पर्दा पीछे सरका कर सामने पगडंडी की ओर झाँकने लगा। उसे इसी पगडंडी से होकर उसके अॉफिस आना था। साडे चार से पौने पाँच बजे के बीच वह कभी भी आ सकती है, यह हिसाब तो उसने पहले ही लगा लिया था, लेकिन जब समय इससे ऊपर हो गया तो उसकी अधीरता बडने लगी।

ठंडा ले आऊँ सर। चपरासी ने जानना चाहा।

अभी रुको। उसने पगडंडी की ओर ही निगाहें जमाए हुए कहा। चपरासी कमरे से बाहर लौट गया।

घडी की सूइयाँ अब पाँच बजने की गवाही दे रही थीं। उसकी अधीरता अब निराशा में बदलने लगी। दफ्‌तर के कर्मचारी अपने टिफिन और थैले उठाकर एक एक करके जाने लगे थे। वह अपने कमरे से उठ कर बाहर बडे हाल में चहल कदमी करने लगा। यहाँ से पगडंडी ही नहीं, पगडंडी से जुडी सडक भी दिखती थी। उसकी निगाहें अब पगडंडी की बजाय, सडक पर उसे तलाशने लगी थीं।

निराशा की स्थिति अब झुँझलाहट और गुस्से में तबदील होने लगी थी। आज के बाद मैं उससे कभी बात नहीं करूँगा। उसने आख्रिर मुझे समझ क्या रखा है। क्या मैं उसके इंतजार में यहीं रात भर बैठा रहूँ। क्या वह जानबूझ कर नहीं आई या फिर उसे याद ही नहीं रहा। सोचते सोचते वह गुस्से से उफनने लगा।

सवा पाँच बजे वह हॉल से निकल कर फिर अपने कमरे में आ गया। कुर्सी पर बैठते ही उसे लगा कि घडी की सूइयाँ उसका मुँह चिडा रही हैं। सहसा उसकी निगाह मेज पर रखे उन पन्नों पर पडी, जिन्हें कुछ ही देर पहले स्टैनो टाईप करके रख गई थी। साथ ही फलयूड की शीशी भी पडी थी। यह पन्ने उसकी कहानी के थे, जिसे उसने आज ही पूरा किया था। वह यह कहानी उस लडकी को पडाना चाहता था, जिसे साडे चार बजे आना था। लेकिन वह नहीं आई थी। वह बार बार कहानी के पन्ने उलटने पलटने लगा।

तभी पदचाप से कमरे का सन्नाटा टूटा और साथ ही इंतजार की डोर भी। गुस्सा, क्षोभ, निराशा, झुँझलाहट न जाने किन कब्रों में जाकर गुम हो गई। वह सामने खडी मुस्करा रही थी।

सॉरी सर, मैं लेट हो गई। बस काम ही इतना ज्‌यादा था।ष् देर से आने की शमिर्ंदगी भी उसके शब्दों में थी और सपाटबयानी भी।

मुझे सचमुच बहुत गुस्सा आ रहा था आप पर। मुस्कराते हुए वह सिर्फ इतना ही बोला।

वह एकटक उसे देखती रही। लगा, कमरे में हवा बहना भूल गई हो और समय ठिठक गया हो। कुछ देर संवादहीनता की सी स्थिति रही। वह उन चित्रों को देखने में मशगूल हो गई थी, जिनमें प्रकृति के रंगों के बीच उसकी मुस्कराहट के रंग भी थे। यह रंग शोख भी थे, चटख भी और चटकीले भी। कोई भी रंग फीका नहीं था। हर रंग में जिंदगी के सपने दर्ज थे।

वह उसके चेहरे की तरफ देखता रहा। प्रकृति के रंग उसके चेहरे पर भी खिल उठे थे। उसे लगा पूरे कमरे में इन रंगों की रोशनी फैल गई है। इस रोशनी में भीनीदृभीनी महक भी थी। यह महक किस फूल की हो सकती है, वह सोचने लगा।

हेमराज कोल्ड ड्रिंक रख गया था। साथ ही एक प्लेट में नमकीन बिस्कुट भी।

लीजिए ठंडा। उसने संवादहीनता की स्थिति को तोडा।

वह सिप करने लगी। बोली कुछ नहीं। कोई सवाल भी उसने नहीं पूछा। बडा आग्रह करने पर उसने दो बार एकदृएक नमकीन बिस्कुट उठाया। तीसरी बार प्लेट आगे बडाने पर वह बोली,

आप खुद तो खा नहीं रहे। मुझे ही खिलाए जा रहे हैं।

वह झेंप गया।

दाँतों से बिस्कुट कतरने की आवाज ही कमरे की खामोशी को तोड रही थी।

मैं जिंदगी में बहुत कम लोगों से प्रभावित हुआ हूँ, लेकिन जिन्होंने मुझे प्रभावित किया है, आप उनमें से एक हैं। आपकी प्रतिभा, आप की सरलता, आपकी भावुकता का मैं कायल हो गया हूँ। आप मुझे एक खुली किताब की तरह लगती हैं। मैं दावे से कह सकता हूँ, आप की जिंदगी खुशियों से भरपूर रहेगी... खामोशी तोडते हुए उसने बोलना शुरू किया तो बोलता चला गया।

वह चुपचाप सुनती रही। कोई प्रतिक्रिया नहीं जताई।

मैं एक उपन्यास लिखने की सोच रहा हूँ। उस उपन्यास की एक पात्र आप भी होंगी। शायद उपन्यास का मुख्य पात्र। कुछ सालों के बाद शायद आपको वह उपन्यास पडने को मिले।ष् उसने बोलना जारी रखा।

उसकी आँखों में हैरानी के भाव उग आए।

पिछले दिनों आपने मेरी जिस कहानी को पडा था, वह कहानी मेरी कॉलेज की जिंदगी के इर्ददृगिर्द घूमती है। कहानी में जिस लडकी सुम्मी का जिक्र आया है, उसका वास्तविक नाम सुनीता था, उससे कॉलेज के दिनों में कोई लंबी गुफ्‌तगू भी नहीं हुई, कोई वायदा भी नहीं और न ही कोई प्रणय निवेदन दर्ज कराया गया। बस उससे जुडी कुछ स्मृतियाँ थीं, जिनमें थी बारिश की रिमझिम भी...। शायद अब जो उपन्यास लिखूँ, उसकी पात्र कोई भारती नाम की लडकी हो।ष् आगे की बात उसने अधूरी छोड दी।

उसकी आँखों में कल्पनाओं का झरना झरने लगा। इस झरने का संगीत उसने हवा में भी बजता महसूस किया।

आप बोलती कुछ नहीं हैं। सिर्फ सुनती रहती हैं। क्या कोई सवाल नहीं है आपके पास? वह उसकी आँखों में झाँकते हुए बोला।

मैं बस सुनना ही चाहती हूँ। अच्छी श्रोता हूँ न इसलिए। कह कर हँस दी।

फिर भी कोई बात तो होनी चाहिए। उसने दलील दी।

आज बुधवार है न! और बुधवार मेरा लक्की दिन है। मेरे ससुराल वाले मुझे देखने भी बुधवार को आए थे। मेरी सगाई भी बुधवार को ही हुई। इस बार मेरा जन्मदिन भी बुधवार को था। कह कर वह चुप हो गई।

वह भी समझ नहीं पाया कि बातों का क्रम कैसे आगे बडाए। घडी की सूइयाँ शाम के साडे छह बजा रही थीं । उसे आए हुए सवा घंटा बीत चुका था। ष्अब चलना चाहिए।ष् कहते हुए उसने उसकी तरफ देखा।

हाँ! अब चलते हैं। उसने भी हामी भरी।

गेट से बाहर निकलते समय उसने उससे मुखातिब होते हुए कहा, ष्आप मेरे साथ चलना पसंद करेंगी या अकेले जाना चाहेंगी?

बस अड्डे तक आपके साथ चलती हूँ। लेकिन इससे पहले रास्ते में अपने अॉफिस से अपना बैग भी लेना है। उसने सहजता से कहा।

उसकी बात सुनकर उसे आश्चर्य मिश्रित प्रसन्नता हुई। उसे उम्मीद नहीं थी कि वह उसकी गाडी में चलने की हामी भर सकती है। वह सोच रहा था कि शायद वह विनम्रता से यह कहेगी कि सर, आप चलिए। मुझे साथ ही मार्केट में कुछ ख्ररीदारी भी करनी है।

लेकिन उसने ऐसा बहाना नहीं बनाया। गाडी चलाते समय वह सोचने लगा कि क्या वह महज शिष्टाचारवश उसके साथ चलने की हामी भर बैठी है या फिर संकोच से मना नहीं कर पाई। यह भी हो सकता है कि वह उसे सच्चे अथोर्ं में अपना दोस्त मानती हो। लेकिन दोस्त को तो सर नहीं कहा जाता। वह खुद से ही सवालदृजवाब करने लगा। ष्यह भी तो हो सकता है कि वह उसे ष्सरष् कह कर सम्मान देती हो। आख्रिर उम्र का भी तो फासला है और यह भी हो सकता है कि वह उसे बहुत बडा लेखक मानती हो। वह खुद से सवालदृजवाब का सिलसिला जारी रखता है।

उसे बस स्टैंड के पास ड्रॉप करने के बाद वह गाडी ड्राइव करते समय फिर से प्रश्नों के भँवर में उलझ जाता है। वह दफ्‌तर में उसके आने की बात सुनकर क्यों खिल उठा था? उसके आने में विलंब होने पर वह क्यों निराश हो गया और क्यों वह निराशा गुस्से में तबदील होने लगी थी? वह क्यों उस पर उपन्यास लिखना चाहता है? अगर लिखना ही चाहता है तो उसे पहले से क्यों बता दिया? वह उस पर आख्रिर क्या जाहिर करना चाहता है?

प्रश्नों के इसी भँवर में चकरघिन्नी की तरह घूमते हुए वह कब घर पहुँच जाता है, उसे पता नहीं चलता। प्रश्नों की खूँटी पर ही अपने कपडे टाँगता है और बिस्तर पर लेट जाता है। दीवार के हर कोने पर उसे प्रश्न टँगे दिखते हैं। क्या उसने सचमुच इस जिंदगी में एक ऐसा सच्चा दोस्त पा लिया है, जिसकी उसे मुद्दत से तलाश थी? कहीं वह किसी बाहरी आकर्षण के सम्मोहन में तो नहीं बँध गया? कहीं उसकी जिंदगी का कोई खाली कोना तो उसे कल्पनाओं के इस जंगल में नहीं ले जा रहा? कहीं वह अपने आप से साक्षात्कार तो नहीं कर रहा? दीवार पर हर सवाल उसे चमकता दिखाई देता है। उसके भीतर धुआँसा उठने लगता है। वह करवट बदल कर सिरहाना अपने सीने के नीचे रख लेता है। उसे लगता है कि उसकी साँसें धौंकनी की तरह चल रही हैं। पसीने की बूँदे उसे माथे पर छलक आती हैं।

तभी फोन घनघनाता है। वह लपक कर रिसीवर उठा लेता है।

सर, मैं रितु बोल रही हूँ। मेरे लिए बुधवार का दिन एक और खुशी की सौगात लेकर आया है। पिछले दिनों मैंने एक कहानी लिखी थी, वह लौटी नहीं बल्कि उसकी स्वीकृति की चिठ्‌ठी भिजवाई है संपादक ने। मैंने वह कहानी आपको दो कारणों से नहीं पडाई थी। इस कहानी के छपने की सूरत में मैं आपको सरप्राइज देना चाहती थी और वापस लौट आने की सूरत में वह कहानी आपको माथापच्ची करने के लिए सौंपना चाहती थी। सर, मैं अब एक उपन्यास भी लिखूँगी, जिसका मुख्य पात्र एक ऐसा लेखक होगा, जो एक पाठिका के भीतर लेखकीय ऊर्जा भर कर उसे लेखकों की कतार में खडा कर देता है। भावातिरेक में वह बोलती चली गई।

और जो कहानी स्वीकृत हुई है, उसकी विषय वस्तु क्या है? वह उत्सुकता से पूछता है।

कुछ नहीं सर। बस कहानी यों ही आगे बडती जाती है।

कहानी का अंत क्या है? उसे अधीर होते हुए पूछा।

सर, आप हैरान हो जाएँगे। कहानी का अंत ऐसा है जैसे कहानी अभी शुरू हुई हो। कहकर वह खिलखिलाने लगती है।

फोन पर कितनी ही देर उसकी हँसी गूँजती रहती है। हँसी की वह खनक फिर उसके कमरे में भी फैल जाती है। दीवारों पर उगे प्रश्नचिन्ह यों गायब हो जाते हैं, जैसे वे कभी उगे ही न हों।