चितकबरे बैंड का रहस्य - 4 Sir Arthur Conan Doyle द्वारा रोमांचक कहानियाँ में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
  • हीर... - 6

    अजीत को राजीव के साथ के अपने अतीत के बारे में बताते हुये अंक...

  • Hot romance - Part 26

    अवरुल लवस्टोरी..... वरदान विला में सुबह दोपहर 12 :00 pm... आ...

  • लागा चुनरघ में दाग़,--भाग(४२)

    अनुसुइया जी के जाने के बाद प्रत्यन्चा भागीरथ जी से बोली.......

  • उजाले की ओर –संस्मरण

    स्नेहिल नमस्कार मित्रों बहस हो गई उस दिन मित्रों के बीच और ज...

  • Shadow Of The Packs - 4

    जिन दो पुलिस वालो पर उस जानवर ने हमला किया था, उनमे से एक पु...

श्रेणी
शेयर करे

चितकबरे बैंड का रहस्य - 4

दी एडवेंचर्स ऑफ़ शेरलोक होम्स

चितकबरे बैंड का रहस्य

(4)

उसने अलमारी को थपथपाते हुए पूछा “ इसमें क्या है ?”

“मेरे सौतेले पिता के व्यावसायिक कागज़ात |”

“इसका मतलब है कि आपने उन्हें अन्दर से देखा है ?”

“कुछ साल पहले केवल एक बार| मुझे याद है कि उसमें बहुत सरे कागज़ात थे|”

“उदाहरण के लिए इसमें बिल्ली तो नहीं है|”

“नहीं| कैसा अद्भुत विचार है?”

“इसे देखे|” उसने एक छोटा सा दूध का कटोरा लिया जो अलमारी के ऊपर रखा हुआ था|

“नहीं हमने कोई बिल्ली नहीं पाल रखी है| परन्तु एक चीता और एक लंगूर जरुर है|”

“हाँ, वास्तव में| चीता भी तो एक बड़ी बिल्ली ही तो होता है परन्तु मैं कह सकता हूँ कि सिर्फ एक कटोरा दूध से उसे संतुष्टि तो नहीं मिल सकती| परन्तु एक बिंदु ऐसा है जिसे मुझे सुनिश्चित करना है”, और वह लकड़ी की कुर्सी के सामने पालथी मार कर बैठ गया और अत्यधिक सावधानी से उसकी गद्दी का निरीक्षण करने लगा|

“धन्यवाद, अब यह तय हो चुका है,” उसने उठते हुए अपना आवर्धक कांच अपनी जेब में रखते हुए कहा|

“वाह यह थोड़ा मजेदार है|”

वह कुत्ते को बंधने का एक पत्ता था जो पलंग के के एक कोने से बंधा हुआ था, जिस पर उसकी नज़र गई| वह पत्ता अपने आप में गोल-गोल लपेटा हुआ था और ऐसे लगता था जैसे चाबुक का कोड़ा हो|

“वाटसन! आप इसका क्या अर्थ लगाते हैं?”

“यह एक सामान्य पत्ता है, पर मैं यह नहीं समझ पा रहा कि इसे इस तरह बाँधा हुआ क्यों है?”

“यह उतना सामान्य भी नहीं है| क्या है?” “आह ! यह एक बदरंग दुनिया है और जब एक चतुर व्यक्ति अपराध की ओर मुड़ता है तो वह सबसे ज्यादा खतरनाक हो जाता है| मुझे लगता है कि मैं काफी कुछ देख लिया है| मिस स्टोनर यदि इजाजत हो तो मैं उस लान पर टहलना चाहूँगा|”

मैंने अपने मित्र का इतना बुझा हुआ चेहरा और काली भवें पहले कभी नहीं देखीं थी जितनी कि खोज पूरी करने के बाद देखीं| हम लोग कई बार उस लान पर इधर-उधर घूमे पर न तो मैं और न ही मिस स्टोनर चाह रहे थे कि उनकी सोच में बाधा बनें, जब तक कि वह स्वयं अपने दिवास्वप्न में से बहार न निकलें|

“ मिस स्टोनर यह बहुत जरूरी है कि आप हर हाल में मेरी सलाह के अनुरूप कार्य करें|”

“मैं निश्चित ही ऐसा ही करूंगी|”

“किसी भी दुविधा से मामला खतरनाक मोड़ ले सकता है| आपका जीवन आपके द्वारा मेरे निर्देशों के मानने पर निर्भर करेगा|”

मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरा जीवन आपके ही हाथों में है|”

सर्वप्रथम तो मैं और मेरा मित्र आपके शयनकक्ष में रात्रि व्यतीत करेंगे|

मैंने और मिस स्टोनर ने उसके ऊपर अचरज भरी नजर डाली||

“हाँ, ऐसा ही होना चाहिए। मैं बताता हूँ। मुझे लगता है कि वहाँ पर गाँव सराय है?”

“हाँ, वह शीर्ष है।”

“बहुत बढ़िया। आपकी खिड़कियाँ वहाँ से दिखाई देंगी?”

“निस्संदेह।”

“जब आपके सौतेले पिता वापस आएँगे उस समय आप सिरदर्द का बहाना बना कमरे में ही रुके रहना। जब आपको लगे कि वे सोने चले गए हैं, तब आप कुंडी हटाकर अपनी खिड़की का पटल खोल देना, खिड़की के पास दीपक जला देना, जो हमारे लिए संकेत होगा और उसके बाद उस कमरे से जो कुछ भी आप अपने साथ लेना चाहते हैं, उसे चुपचाप रख लें। मुझे पूरा विश्वास है कि, मरम्मत के बावजूद, आप किसी तरह वहाँ एक रात रह सकते हैं।”

“अरे, हाँ, आसानी से।”

“बाकी सब आप हम पर छोड़ दें।" " लेकिन आप क्या करने वाले हैं?”

“हम आपके कमरे में रात गुज़ारेंगे, और उस शोर का पता लगाएँगे जो आपको परेशान कर रहा है।”

“मुझे लगता है, श्रीमान् होम्स, आप पहले ही अपना मन बना चुके हैं I” ऐसा कहते हुए मिस स्टोनर ने, मेरे साथी की बाँह पर अपना हाथ रख दिया।

“शायद, हो सकता है।”

“फिर,दया दिखाइए और मुझे बताइए कि मेरी बहन की मृत्यु का कारण क्या था?”

“ मैं कुछ भी कहने से पहले पक्के सबूत देना चाहूँगा।”

“आप कम से कम मुझे इतना तो बता सकते हैं कि क्या मेरा ऐसा सोचना सही है कि वह डर लगने से अचानक मर गई।”

“नहीं, मुझे ऐसा नहीं लगता। मुझे लगता है कि इसके पीछे कोई और ठोस कारण था। और अब, मिस स्टोनर, हमें जाना होगा, यदि डॉ रॉयलॉट वापस आ गए और उन्होंने हमें देख लिया तो हमारा आना बेकार हो जाएगा। अच्छा चलते हैं, आप हिम्मत रखिएगा। यदि आपने वैसा ही किया जैसा मैंने आपसे कहा है तो बाकी हम पर विश्वास कीजिए कि हम आपको उन ख़तरों से दूर ले जाएँगे जो आपको डरा रहे हैं।”

शेरलॉक होम्स और मुझे उस शीर्ष सराय के कमरे में बैठे रहने में कोई कठिनाई नहीं थी। वे ऊपरी मंजिल पर थे, और हमारी खिड़की से हम मुख्य द्वार के रास्ते को और स्टोक मोरन मनोर के घर के हिस्से को आसानी से देख सकते थे। शाम को हमने डॉ. ग्रिम्सबी रॉयलोट को पीछे छोड़ दिया था, उनकी बड़ी-सी आकृति के समीप छोटा कद दिख रहा था जो उस लड़के का था जो उन्हें ले जा रहा था। लड़के को लोहे के भारी दरवाज़ों को बंद करने में थोड़ी कठिनाई हो रही थी, और हमने डॉक्टर की गुर्राहट भरी आवाज़ सुनी और गुस्से से भरे उनके मुट्ठी भींचे हाथ देखें। जाल बिछ गया था और कुछ ही मिनट बाद हमने पेड़ों की झुरमुट में अचानक रोशनी देखी क्योंकि बैठक के कमरे का दीपक जल गया था।

“क्या आप जानते हैं, वैटसन” जब हम अंधेरे में बैठे थे तब होम्स ने कहा," मुझे रात को आपको लाने में सच में कुछ परेशानियाँ हैं। खतरा साफ़ नज़र आ रहा है। "

“क्या मैं कुछ सहायता कर सकता हूँ?”

“आपकी उपस्थिति अमूल्य हो सकती है।” “तब मैं निश्चित तौर पर आऊँगा।”

“मेहरबानी आपकी।”

“आप खतरे की बात कर रहे हैं। आपने इन कमरों में स्पष्ट रूप से उससे अधिक कुछ देखा है, जो मुझे दिखाई दे रहा है।”

“नहीं, लेकिन मुझे लगता है कि मैंने काल्पनिक थोड़ा और कम कर दिया होगा। मैं सोचता हूँ कि आपने वह सब देखा जो कुछ मैंने देखा है।”

“मुझे घंटी से बंधी रस्सी में कुछ भी अलग नहीं दिखा, और मैं झूठ क्यों बोलूँगा..मैं जितनी कल्पना करता हूँ उससे भी ज़्यादा मैं कबूल करता हूँ।”

“आपने रोशनदान भी देखा? "

"हाँ, लेकिन मुझे ऐसा नहीं लगता है कि यह इन दो कमरों को बीच से खोलने वाली कोई छोटी जगह होगी। वह इतना छोटा था कि कोई चूहा भी मुश्लिक से जा सकता था।

“मुझे पता था कि हमें स्ट्रोक मोरन के सामने जाने से पहले रोशनदान खोज लेना चाहिए था।”

“मेरे प्रिय होम्स!”

“अरे, हाँ, मैंने किया। आपको याद है उसने कहा था कि उसकी बहन डॉ रॉयलॉट के सिगार की महक को सूँघ सकती है। अब, निश्चित रूप से इससे एकबारगी ऐसा लग सकता है कि उन दो कमरों के बीच कुछ न कुछ बातचीत होती होगी। हो सकता है यह बिलकुल छोटी-सी बातचीत हो जैसे किसी कोने के बारे में पूँछताछ करना। मैंने रोशनदान को छोटा कर दिया है।

“लेकिन उसमें क्या नुकसान हो सकता है?”

“खैर, लेकिन तारीखों में ग़ज़ब का संयोग है। एक रोशनदान बनाया जाता है, एक रस्सी लटकाई जाती है और बिस्तर पर सोई एक औरत की मौत हो जाती है। क्या इससे आपके मन में कोई संदेह नहीं उठता?”

“मैं अभी तक इसमें कोई संबंध देख नहीं पा रहा हूँ।”

“क्या आपने उस बिस्तर के बारे में कुछ ख़ास बात देखी है?”

“नहीं।”

“वह ज़मीन पर धँसा हुआ था। क्या आपने इस तरह से बँधा हुआ बिस्तर कभी देखा है?”

“मैं नहीं कह सकता कि मैंने पहले ऐसा देखा है।”

“महिला अपना बिस्तर नहीं हिला सकती है। बिस्तर को हमेशा रोशनदान और रस्सी की सीध में होना चाहिए, जो नहीं था इसलिए हम ऐसा कह सकते हैं कि निश्चित ही वह घंटी खींचने के लिए नहीं लगाई गई थी।”

“होम्स,” मैं रो पड़ा, "मुझे लगता है कि मैं उसे ज़रा भी देख नहीं पाया जिस ओर आप इशारा कर रहे हैं। हम केवल समय पर पहुँचकर किसी रहस्यमय और भयानक अपराध को होने से रोक सकते हैं।”

“रहस्यमय भी और भयानक भी। जब कोई डॉक्टर गलत करता है तो वह सबसे पहला अपराधी होता है। उसके पास ताकत होती है और उसके पास ज्ञान होता है। पामर और प्रिचर्ड अपने पेशे के प्रमुखों में से थे। यह आदमी और भी गहराई से हमला करता है, लेकिन मुझे लगता है, वाटसन, कि हम अभी भी गहरा वार करने में सक्षम होंगे।

“लेकिन रात खत्म होने से पहले हम बहुत डर चुके होंगे; भगवान् के लिए, हमें शांत पाइप दे दीजिए और हमारे दिमाग को कुछ घंटों के लिए थोड़ा और प्रसन्नचित्त होने दीजिए।”

लगभग 9 बजे पेड़ों के पीछे की रोशनी बुझ गई थी, और मनोर हाउस की दिशा में सब ओर अंधेरा था। दो घंटे धीरे-धीरे बीत गए, और फिर अचानक, ग्यारह के गज़र पर, एक चमकदार रोशनी ठीक हमारे सामने दिखाई दी।

“वह हमारे लिए संकेत है,” होम्स ने कहा, वे उछल पड़े ; "यह बीच खिड़की से आ रहा है।"

जैसे ही हम बाहर निकले, उन्होंने मकान मालिक से थोड़ी बातचीत की, उन्होंने विस्तार से बताया कि हम इतनी रात गए किसी परिचित से मिलने जा रहे हैं और हो सकता है हम रात को वहीं रुक जाएँ। तुरंत बाद हम अंधेरी सड़क पर निकल पड़े, ठंडी हवा हमारे चेहरे को सहला रही थी, एक पल बाद में हम अंधेरे सड़क पर बाहर निकले, हमारे चेहरे में एक ठंडी हवा बह रही थी, और हमारे सामने एक पीली रोशनी चमक रही थी, जो हमें निराशा के बीच किसी मार्गदर्शक की तरह होने का संदेश दे रही थी।

पुराने बगीचे की दीवार में पड़ी दरारों की मरम्मत न होने से बगीचे से गुज़रने में थोड़ी परेशानी हो रही थी। पेड़ों के बीच से अपना रास्ता बनाकर, हम लॉन (घास के मैदान) में पहुँचे, उसे पार किया और खिड़की से अंदर जाने ही वाले थे कि लॉरेल झाड़ियों की झुरमुट में हमें एक गंदा और विकृत बच्चे जैसा कुछ दिखा जो खुद घास पर गिर गया था,और छटपटा रहा था और बाद में तेजी से घास के मैदान से होता हुआ अंधेरे में कहीं चला गया।

“हे भगवान्!” मैं फुसफुसाया ; “क्या आपने उसे देखा था?”

होम्स कुछ क्षणों के लिए वैसे ही चौंक गए थे, जैसे कि मैं। आवेश में उन्होंने अपने हाथों से मेरी कलाई को कसकर पकड़ लिया था। फिर उन्होंने मेरे कानों के पास अपना मुँह लाते हुए धीरे से ठहाका लगाया।

“यह अच्छा कुनबा है,” वे बुदबुदाए। “वह लंगूर है।”

मैं उन अजीब पालतू जानवरों को भूल गया था जिनसे डॉक्टर प्रभावित थे। एक चीता भी था; शायद हम उसे किसी भी समय अपने कंधों पर पा सकते हैं। मैं कबूल करता हूं कि मैंने खुद को सहज पाया पाया जब मैंने होम्स के उदाहरण को सामने रखा और अपने जूते बंद करने के बाद जब मैंने खुद को शयनकक्ष में पाया। मेरे साथी ने पटल बंद कर दिया, दीपक को मेज पर लाया, और कमरे के चारों ओर अपनी नज़रें घूमाईं। सब कुछ वैसा ही था जैसा कि हमने दिन में देखा था। वे फिर धीरे-धीरे मेरे पास आए और अपने हाथ से तुरही बनाते हुए उन्होंने मेरे कानों के पास फिर धीरे से तुरही बजाने जैसा किया।

यही सब कुछ था जो मैं शब्दों में अलग-अलग कर सकता था :

“धीमी आवाज़ हमारी योजनाओं की नियति होगी।” मैंने यह दिखाने के लिए सिर हिलाया कि मैंने सुन लिया था।

“हमें बिना प्रकाश के बैठना होगा। वह इसे रोशनदान के माध्यम से देखेगा।”

मैंने फिर से सिर हिलाया।

“सो मत जाना; आपका जीवन बहुत हद तक इस पर निर्भर हो सकता है। अपनी पिस्तौल तैयार रखो…हमें कभी भी उसकी ज़रूरत पड़ सकती है। मैं बिस्तर के किनारे बैठूँगा, और तुम उस कुर्सी पर बैठोगे।”

मैंने अपना रिवाल्वर निकाला और इसे मेज के कोने पर रख दिया।

होम्स ने लंबी पतली बेंत लाई थी और उसने उसे बिस्तर पर अपनी बगल में रखा था। इसके पास उसने माचिस की डिब्बी और मोमबत्ती का टुकड़ा रखा। फिर उसने दीपक बुझा दिया और हम अंधेरे में चले गए।

मैं कभी भी उस भयानक रतजगे को कैसे भूल सकता हूँ? मैं कोई आवाज़ नहीं सुन पा रहा था, साँस लेने की भी नहीं, और तब भी मुझे पता था कि मेरे साथी खुली आँखों से मुझसे कुछ ही दूर बैठे है, वे भी उसी बेचैनी और तनाव में थे, जिसमें मैं था। पटल ने प्रकाश की छोटी से छोटी लौ को भी कम कर दिया और हम पूरा अंधेरा हो जाने का इंतजार कर रहे थे।

बाहर टिटहरी की आवाज़ आ रही थी, और एक बार हमने बिल्ली की तरह किसी की लंबी रिरियाहट सुनी, जो किसी ने कहा कि वह वास्तव में चीते का आज़ाद गुर्राना था। बहुत दूर से हमें पैरिश घड़ी के घंटे सुनाई दे रहे थे, जो हर आधा-पौने घंटे बाद बज रहे थे। वो पौना घंटा बीतने में कितना लंबा समय लग रहा था! बारह का ठोंका बजा और उसके बाद एक का, दो का और तीन का और हम तब भी चुपचाप बैठे इंतज़ार कर रहे थे, कुछ भी हो सकता था।

अचानक रोशनदान की दिशा में क्षण भर के लिए रोशनी चमकी, जो तुरंत ही धूमिल भी हो गई लेकिन अपने पीछे जलते हुए तेल और गर्म धातु की तेज़ गंध छोड़ गई। पड़ौस के कमरे में किसी ने अंधेरे में लालटेन जलाया था। मैंने दबे-छिपे कदमों की आहट सुनी और उसके बाद एक बार फिर सब शांत हो गया। हालाँकि महक तेज़ हो गई थी। आधे घंटे तक मैं कान लगाकर सुनता रहा। फिर एक और आवाज़ सुनाई दी- बहुत हल्की लेकिन मधुर…ऐसा लगा जैसे केतली के छिद्र से लगातार भाप निकल रही हो। जिस क्षण हमने उसे सुना,होम्स बिस्तर से उछल पड़ा, माचिस जलाई और घंटी से जुड़े अपने डंडे को बड़ी व्यग्रता से पीटा।

“आपने इसे देखा, वाटसन? "वे चिल्लाए। "आप इसे देख रहे हैं?" लेकिन मैंने कुछ भी नहीं देखा। उस समय जब होम्स ने रोशनी की तो मुझे धीमी पर स्पष्ट सीटी सुनाई दी थी..लेकिन चमकती रोशनी जो मेरी थकी आँखों पर पड़ी उसकी चमक ने मेरे लिए यह बताना मुश्किल कर दिया।

***