Shabd nahi ahsaas he - 1 books and stories free download online pdf in Hindi

शब्द नहीं एहसास है - 1

---- जिंदगी एक फिल्म ----

* जिंदगी किसी फिल्म से कम है क्या ,
किस मोड़ पर क्या होगा पता नहीं ,
अगर कुछ मिला नहीं इक क्षण पर कुछ घटा नहीं ,
मोड़ भी जिंदगी में रास्तों से ज़्यादा है ,
दुख चाहे कितने हों हसते रहने का खुद से वादा है ,
किरदार खुद का हो तो नकल करने से क्या ,
जिंदगी तुम्हारी है कहने दो लोगों का क्या ,
ये एक ही है इसका कोई रीमेक नहीं ,
जिंदगी मिली है तो जिओ, काटो इसे ये कोई केक नहीं ,
ऐसी फिल्म है जिंदगी जिसमें कोई ब्रेक नहीं ,
चलते रहने का नाम जिंदगी है ,
जीवन जीने का नाम जिंदगी है ,
इस फिल्म रूपी आत्मकथा का नाम जिंदगी है ,
हंगामा है ट्रैजडी है एक्शन है सस्पेंस है थ्रिल है ,
जिंदगी न हुई तो मानो एनसीसी की ड्रिल है क्या ,
ये जिंदगी किसी फिल्म से कम है क्या । । ।

✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻 ✍🏻


---- हर पल इक त्योहार ----

* जो मिला है जिंदगी में सब कुछ उपहार है ,
आपका व्यक्तित्व नापता आपका व्यवहार है ,
स्वस्थ जिंदगी जीवन का उपकार है ,
जिसने सीखा जीना उसी ने जीवन का
किया सत्कार है ,
कृपा है उस परमात्मा की और
हमारा उसी से आधार है ,
हम पर उसी का आभार है ,
सुखी हो तुम अगर खुद ही से तुम्हें प्यार है ,
ये जिंदगी मेरी नहीं उसकी कलम की धार है ,
आजकल सत्य नहीं सब कुछ व्यापार है ,
भजते हैं उसका नाम ये उसी की
अनुकंपा का सार है ,
वैसे तो सप्ताह में कुल सात ही वार हैं
औरों के लिए ना सही मगर हमारे लिए ,
तो फिर हर दिन यहाँ त्योहार है। । ।

😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊 😊


---- आवाज ही पहचान है ----

* कहने को तो हर शख्स गुमनाम है ,
मेरी तो आवाज़ ही मेरी पहचान है ,
माना कि एक दिन दौर बदल जाएगा
सूरत भी बदल जाएगी
सीरत भी बदल जाएगी
जो नहीं बदलेगी वो मेरी स्याही की शान है ,
मेरी मानो तो आपकी सोच ही अंजाम है ,
किसी चीज़ को करना मुश्किल नहीं जनाब
बस ठान लेने की देर है ,
ठान लिया तो बस उजाले की सवेर है ,
जिंदगी मिली है तो बस अब कुछ कर के बताना है ,
जिसकी किसी को उम्मीद नहीं वही कर दिखाना है ,
खुद को हमें कुछ इस कदर आज़माना है ,
बेखौफ जिंदगी बेखौफ इरादा है ,
कुछ कर गुज़रना है बस यही खुद से एक वादा है ,
हार भी जाऊँ तो कुछ गम नहीं ,
बस डर की आँखों में आँखें डाल लड़ने का इरादा है ,
कितने लोग हैं दुनिया में हम सब से बेख़बर सब से अंजान हैं ,
आपके कर्म से ही होती आपकी पहचान है ,
जवाब जीना इसी का नाम है ,
कहने को तो हर शख्स गुमनाम है । । ।
मेरी तो आवाज़ ही मेरी पहचान है । । ।

😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇 😇

✍🏻-श्रुति शर्मा❤


अन्य रसप्रद विकल्प