द एजेंटस - 6 Shamad Ansari द्वारा फिक्शन कहानी में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
  • द्वारावती - 39

    39मंदिर से पूर्व ही एक श्रद्धालु ने केशव को रोक लिया। “बेटे,...

  • इंद्रप्रस्थ - 2

    परम पराक्रमी युधिष्ठिर नगरी के राजा बने। भीम मुख्य सेनापति ब...

  • वंश - भाग 9

    नौ मुबारकपुर में यह बात जंगल की आग की तरह फैल गई कि नारी-निक...

  • हमसफर - 12

    .....ये सब क्या हे ऐश्वर्या .,,,, ऐश्वर्या आस्था को हॉल मे ल...

  • चोरपहरा

    चोरपहरा पांडेय जी का एक छोटा सा परिवार था। पति-पत्नी और उनके...

श्रेणी
शेयर करे

द एजेंटस - 6

विक्रम भी मैडम के पूछे गए सवालों का जवाब फटाफट दे देता है। विक्रम को ऐसे जवाब देते देख तो दिवा भौंचक्का रह जाता है। बाकि विद्यार्थी ताली बजा बजा कर विक्रम को शाबाशी दे रहे थे। फिर अशोका दिवा को इशारा करते हुए कहता है बस करवाली बेइज्जती। फिर दिवा अशोका की ओर जाता है और बोलता है की मुझे लगा की विक्रम को कुछ समझ नहीं आ रहा है तो फिर मैंने सोंचा की इसकी बेइज्जती करने का ये अच्छा मौका है लेकिन इसने तो बाजी मार ली। तभी अशोका हँसते हुए कहता है तुझे सही लग रहा था उसे तो अभी कुछ नहीं मालूम होगा की उसने बोला किया था। फिर दिवा अशोका की बात काटते हुए कहता है तो वो जवाब कैसे दे रहा था। अशोका उसकी तरफ देखते हुए कहता है विक्रम को सिर्फ थ्योरी समझ नहीं आ रही थी लेकिन वो देख तो सकता है न उसने किताब से देख के मैडम को जवाब दिया था। दिवा विक्रम को घूरते हुए कहता है साला ये है ही चोर। अशोका दिवा को चिढ़ाते हुए अंदाज में कहता है लेकिन विक्रम तो हीरो बन गया न लड़कियों की नज़रों में। लड़कियां तो उससे खुस हो गयी न। दिवा ने अफसोस जताते हुए कहता है मुझे माफ़ कर दे मुझे थोड़े ही मालूम था की ऐसा हो जायेगा।

फिर दिवा कहता है यार गलती तो इंसान से ही होता है न। अशोका भी उसको जवाब देते हुए कहता है सजा भी तो इंसान को ही मिलता है। फिर अपनी बात आगे बड़ाते हुए अशोका कहता हैं की अब तू जा के किसी भी लड़की को - I LOVE YOU
और अगर ऐसा नहीं किया तुमने तो हमारी दोस्ती फिर ख़त्म। सिकंदर अशोका की बातों में हांमी मिलाते कहता है अशोका बिलकुल ठीक कह रहा हैं। फिर दीव कुछ सोचते हुए एक लड़की के बैंच पर जा कर बैठ जाता है। सिकंदर ने अशोका से कहा जब दीव I LOVE YOU बोलेगा तो क्या होगा ???
अशोका कहता है और किया होगा बस उसका बैंड बजेगा बस। तभी दीव एक अंग्रेजी बोलने वाली लड़की के नज़दीक गया और बोलै मैं तुमसे प्यार करता हूँ। फिर लड़की अपनी भाषा में बोली तुम क्या कहने की कोशिश कर रहे हो। दीव कहता है कुछ नहीं नथिंग , फिर दीव सिकंदर के पास जाता है और कहता है मानता हूँ की मैं शकल या चेहरे से पागल नज़र आता हूँ लेकिन हूँ नहीं।
सिकंदर अशोका से कहता है बात हुई थी की इंग्लिश में बोलने की लेकिन इसने तो हिंदी में बोल डाला।
तभी पीछे से कुछ लड़कियों की बात करनी की आवाज़ सुनाई पड़ी। वे लोग अपनी भाषा में दीव के बारे में बात कर रहे थे , वे यह कह रहे थे की दीव एक देहाती लड़का है। दीव उनकी बात सुन कर अशोका और सिकंदर से कहता है सुना वो लोग मेरी तारीफ कर रहे है तभी अशोका हँसते हुए कहता है अबे भूतनी के वो तुझे देहाती यानी गॉव का छोकरा कह रहे हैं। सिकंदर बोलता है अभी बहुत हीरो बन रहा था न अब भुगत तभी बेल बजने की आवाज सुनाई देती है और अशोका कहता है क्लास का समय हो गया है अब हमें क्लास में चलना चाहिए पांचों क्लास में पहुंच जाते हैं थोड़ी देर में Teague सर भी क्लास में पहुंच जाते हैं Teague सर बोलते हैं कि यह नए नमूने कौन है तभी एक लड़की जिसका नाम Jessica था वह बोलती है सर ये नए स्टूडेंट है अच्छा ठीक है, तो बच्चों आज मैं आप सबको एक नये टॉपिक के बारे में बताऊंगा क्या सर div बीच में बोल पड़ा Tegue सर थोड़ा गुस्सा होते हुए बोले बता रहा हूं एक पल का भी सब्र नहीं है तुम्हें क्लास की तरफ ध्यान देते हुए Teague सर बोले कि बच्चों आज मैं तुम्हे बताऊंगा कि आखिर पढा कैसे जाता है Div फिर से बीच में बोल पड़ा फिर तो सर इसके बाद मैं आपको बता सकता हूं कि आखिर पढ़ाया कैसे जाता है Teague सर आग बबूला होते हुए div को डांटते हुए बोलते हैं कि अभी के अभी तुम क्लास से बाहर चले जाओ Div थैंक यू सर कहते हुए क्लास से बाहर चला जाता है क्लास के बाहर जाके Div corridoor में आती जाती सुन्दर लड़कियों को गिनना शुरू कर देता है वह आते जाते हर लड़की को ताड़ रहा था | Lecture ख़तम करने के बाद teague सर Div के पास आके कहते है बेटा तुम अच्छे विद्यार्थी लगते हो बस अपनी energy गलत जगह waste मत करो Div कहता है जी सर बिलकुल मैं अब से ऐसा ही करूंगा जैसा अपने कहा Teague सर स्टाफ रूम की तरफ चले जाते है अशोका और सिकंदर Div के पास आके कहते हैं यार तुझे कितना बुरा लगा होगा तूझे सर ने punishment जो दी, अशोका बीच में बोला हाँ यार हमें तेरे लिए बहुत बुरा लगा, Div दोनों की बात काटते हुए बोला अरे ऐसा कुछ भी नहीं है जैसा तुम समझ रहे हो मैंने अपने क्लस्स की हरियाली तो देख ली लेकिन बाहर की हरियाली का भी तो मजा उठाना था न मतलब यार अपने क्लास के दरवाजे के पास सिर्फ दो पौधे थे और खिड़की से सिर्फ एक ही दिखती थी लेकिन यहाँ कॉरिडोर मैं तो इतने सारे पेड़ हैं, विदेशियों के पेड़ की हवा और अपने देशी पेड़ की हवा में फर्क समझने की कोशिश कर रहा था अशोका बोला हाँ हाँ समझ गए ....