नोक जोक वाला प्यार Sankhat Nayna द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

नोक जोक वाला प्यार

एक प्रिया नामकी लड़की थी। १२ वी पास करके उसने कॉलेज मुंबई करना सोचा। सब ने मना करने से बावजुत वो कॉलेज करने मुबंई गई।
सरदार कॉलेज में उसने एडमिशन लिया वो बहुत खुश थी। पहले दिन वो नई कॉलेज में आने के लिए एक्साइटेड थी। लेकिन उसे पता नहीं था कि कॉलेज में एंट्री के लिए राजू की परमिशन लेनी पड़ती हैं। लेकिन राजू कोई प्रोफेसर नहीं एक कॉलेज स्टूडेंट्स था। वो सबको डराता धमकाता था। प्रिया ने गलती करदी। वो परमिशन बगैर कॉलेज में जा पहोंची।
राजू जब क्लास में देखने आया तो पता चला कि ये तो कोई नई लड़की आई है। लेकिन मैने तो उसे गेट पर देखा ही नहीं ये है कोन? पता लगाना पड़ेगा। ये आयी कहा से? गेट के पास में खड़ा था तो आई कहा से? तब उसके दोस्त ने बताया। तुम जब फोन में बाते कर रहे थे तब वो अंदर आ गई थी। राजू ने कहा वो अच्छा, ये बात है, अब वो मुझसे नहीं बचेगी। ऐसा बोल कर वह से चला गया। जब फ्री लेक्चर आया तब वापस आया प्रिया के क्लास में और प्रिया के पास जाके उसकी बेंच के ऊपर बैठ गया और बोला: नई हो कॉलेज में? प्रिया ने कहा: yes क्यों पूछ रहे हो? दिखाए नई देता क्या? सब हंसने लगे। ये देख के राजू क्यों गुस्सा आया और प्रिया की किताबें फेंक दी। तब प्रिया गुस्से से लाल हो गई और बेंच से खड़ी हो गई। वहा से जाने लगी अपनी किताबे वहीं रखकर। तब राजू ने उसका हाथ पकड़ लिया और बोला। कहा सवारी चली मैडम किताबे लेने नहीं दूंगा। तब प्रिया ने जवाब दिया, में किताबे नहीं उठाऊंगी, तुम उठाकर मुझे दोगे। ये सुनकर राजू जोरो शोरो से हंसने लगा। बोला क्या प्रूफ है मैने फैकी किताबे? तब प्रिया ने जूठ कहा कि मैंने फोन में रिकॉर्ड कर लिया था अब प्रिंसीपल को दिखाउंगी, ये सुनकर राजू ने किताबे उठा कर बोला रुको ये को तुम्हारी किताबे। प्रिया हंस कर बोली क्यों हवा टाइट हो गई। मैंने तो यही कहा था किताबें उठाने के लिए। राजू को बहुत गुस्सा आया। प्रिया वहा से चली गई, राजू मन ही मन उसकी बैज्जती का बदला लेने का सोच रहा था। तब प्रिया भी राजू को सबक सिखाने के लिए सोच रही थी।
राजू ने सोचा कि कल कॉलेज आने दो कॉलेज में क्या मजाक बनाता हूं उसका। जब सुबह प्रिया कॉलेज आई तब रजुने पूरी कॉलेज में प्रिया की पोस्टर बना के चिपकाए थे प्रिया की सब हसी उड़ा रहे थे प्रिया बोली क्यों दात दिखा रहे हो? क्या हुवा? लड़की कभी देखी नहीं? तब एक लड़की बोली प्रिया तुम्हारी पोस्टर लगी है देखो वहा। प्रिया ने देखा तो,,,,,,,, प्रिया बोली omg ये क्या मैंने नहीं लिखा और ये में नहीं हूं। पोस्टर लिखा था प्रिंसिपल गधा हैं फ्रॉम... प्रिया। ऐसा लिखा था। तब प्रिंसीपल आए और देखा प्रिया को बोला ऑफिस में आओ। प्रिया घबराते हुए गई बोली sir please try to understand मैंने नहीं लिखा। मुझे पता भी नहीं प्रिंसीपल ने उसकी बात नहीं मानी और प्रिया को पनिशमेंट दी। प्रिया बाहर जा के रोने लगी। राजू बोला केसी लगी? अब पता चला राजू कोन है? मुझसे पंगा मत लेना कभी समझी।।। डफर कहीं की। प्रिया गुस्से में बोली में तुम्हे नहीं छोडूंगी। प्रिया बदला लेने राजू के नाम से कॉलेज मैडम को लव लेटर लिखती है। और मैडम की बुक में रख देती है। दूसरे दिन राजू को ऑफिस में बुलाया जाता है और प्रिया की तरह राजू को भी १५ दिन कॉलेज न आने की पनिशमेंट देते है। राजू ऑफिस से गुस्से एम में बाहर आया तब प्रिया अपने फ्रैंड के साथ खड़ी खड़ी राजू की कमेंट कर रही थी। प्रिया बोली: ओहो कोई मैम को प्यार करता है? देखो राजू ने किया। ऐसा बोल कर जोर जोर से हंसने लगी। राजू तब कुछ नहीं बोला। वो चुप चाप वहा से चला गया। कॉलेज से शाम को छुट्टी मिली सब अपने अपने घर जा रहे थे तब प्रिया भी निकली सबके साथ। उसकी फ्रैंड को बोली यार में तो रूम पे बोर हो जाऊंगी। क्या करू १५ दिन कैसे निकालूंगी। तब उसकी फ्रैंड बोली मेरे घर आ जाओ मम्मी है उसके साथ निकाल लेना। प्रिया बोली ओके में आ जाऊंगी। चल bye bye tc ऐसा बोलकर वहा से निकल गई। और उसके रूम जा कर दरवाजा खोला तो क्या देखा,, राजू उसके रूम के अंदर बैठा था। प्रिया बोली तुम,,,,, मेरे रूम पे? अहा क्या कर रहे हो तुम? और अंदर आए कैसे? चलो निकलो यहां से? राजू खड़े होकर प्रिया की करीब आने लगा प्रिया घबराने लगी बोली मेरे पास मत आओ में चिलाऊंगी। राजू प्रिया चिलाने के लिए मुह को खोला वहीं राजू ने क्लोरोफॉर्म वाले रुमाल से मूह बंद कर दिया। और प्रिया को बोरे में भरके अपने साथ ले गया। प्रिया को सुबह होश आया तो कोई जंगल में पाया। वो बोली में कहा हूं, ये कौन सी जगह है। तब राजू को देखा टेंड बनाते हुए। प्रिया बोली तुम? मुझे तुम हि यहां लाए हो। कहा लाए हो मुझे बोलो। राजू बोला तुमने मुझे पनिशमेंट दिलवाई अब १५ दिन मेरे साथ ही बिताने पड़ेंगे। प्रिया चिलाने लगी, राजू बोला चिलाओ यहां कोई नहीं है जो तुम्हारी आवाज़ सुनेगा में और तुम, तुम और में। प्रिया ने राजू को धक्का दिया और वहा से भाग गई। राजू ने प्रिया को दौड़कर पकड़ लिया और पेड़ के साथ बांध दिया। प्रिया रोती रही राजू बोला अब को करना है करो ओके में जा रहा हूं पानी भरने bye,,,,,,। प्रिया बहुत डर रही थी वो सब जगह देख रही थी। उसे बुरे बुरे खयाल आ रहे थे। प्रिया मन में ही बडबडा रही थी, क्या करेगा मेरे साथ कहीं मेरी हिज्जत,,,,,,,। राजू वापस आया प्रिया बोली प्लीज़ मुझे जाने दो प्लीज़। राजू हसकर बोला: ओह डार्लिंग अभी सब कुछ बाकी है। अभी तो तुम्हे सब देना है मुझे। तब प्रिया घबरा गई और बोली: मुझे पता है तुम मेरे साथ क्या करना चाहते हो तुम्हारे जैसे लड़के कर भी क्या सकते है। तुम मुझे बरबाद करना चाहते हो पर याद रखना में अपनी जान दे दूंगी पर,,,,, ये सुनकर राजू ने प्रिया को थप्पड़ मारा और बोला में तुम्हारे जैसा नहीं हूं समझी ? जो आए मनमे ऐसा बोल रही हो। में ऐसा लड़का नहीं हूं मे तो बस तुम्हे सबक सिखाना चाहता था। ऐसा बोल कर वो वहा से प्रिया छोड़कर चला गया। प्रिया बहुत रोई, और वो वहा से जाने लगी तब उसने सामने सांप देखा वो डर गई बोली:
बचाओ प्लीज़,,,, राजू दौड़कर आया बोला प्रिया हिलना मत, लकड़ी से सांप को फेंक दिया। फिर वहा से चला गया। दूसरे दिन प्रिया को एहसास हुआ कि में राजू को माफ कर दूंगी वो करे में १४ दिन कॉलेज नहीं जाऊंगी अपनी पनिशमेंट समझ के जेल लुंगी। कॉलेज जाके अपनी गलती मान लेती है प्रिंसीपल की ओर गुस्सा आता है उसे कॉलेज से निकाल ने कि बात करते है। ये सुनकर प्रिया बहुत रोती है और वहा से चली जाती हैं। प्रिंसीपल राजू को कॉल करके बुलाता है और उससे माफी मांगते हैं। प्रिंसिपल बोले: सॉरी राजू ये बेवकूफ लड़की प्रिया ने सब किया था। और तुम्हे पनिशमेंट मिल गई, मैंने उसे कॉलेज से निकाल दिया। राजू बोला ये क्या किया सर,,,,, मेरी गलती की सजा उसे मत दो। मैंने भी एक गलती की थी पोस्टर मैंने दीवाल पे चिपकाया था और नाम प्रिया का लिख दिया था। उसकी कोई गलती नहीं है शुरुआत मैंने की थी। उसे कॉलेज से मत निकालो प्लीज़ सर,,।
प्रिंसीपल उसकी बात मानकर प्रिया को कॉलेज आने के लिए कहते है, ओर पनिशमेंट रद करते है। प्रिया २ दिन के बाद प्रिया कॉलेज आई तब वो बड़बड़ाने लगी सर को क्या हुआ? मेरी गलती क्यों माफ करदी? तब उसकी दोस्त ने बताया प्रिया,,, राजू ने अपनी गलती मान ली है। और उसे सर ने पनिशमेंट दी है। तुम्हे वापस बुला लिया। यार अब तो खुश हो ना? प्रिया सोचने लगी। राजू ने ये क्या किया। फिर राजू के बारे में सोचने लगी। राजू से माफी मांगने उसके घर गई। तब सब घर पे थे। प्रिया वहा से वापस लौट गई उसके रूम। फिर अपनी दोस्त के पास से राजू का नंबर लिया और उसे कॉल किया। राजू ने कॉल उठाया। Hallo, Hallo,, फोन कट गया। प्रिया बोल नहीं पाई। फिर से कॉल किया राजू ने उठाया। Hallo,,,, प्रिया बोली: सॉरी,,,,, कॉल काट दी। राजू आवाज़ से पहेचान गया। वो प्रिया के बारे में सोचने लगा। मुझे उसके साथ ऐसा नहीं करना चाहिए था। क्या सोचती होगी मेरे बारे में। फिर बड़बड़ाया मुझे क्या को भी सोचे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। और में क्यों उसके बारे में इतना सोचता हूं। प्रिया भी परेशान थी उसे अच्छा नहीं लगता था। रात को ९ बजे वो राजू के घर जाने लगी। तब रास्ते में एक खड्डे में पैर गीर गया और पैर में मोच आ गई। उसने डर के मारे राजू को कॉल किया। प्रिया : राजू please help me. राजू ने कॉल उठाया बोला: क्यों बार बार कॉल कर रही है? और में क्यों करू तुम्हारी हेल्प? मुझे कॉल मत करो प्लीज। प्रिया : राजू में अजंता टॉकीज के सामने हूं मेरे पैर में मोच आ गई । कोइ बात नहीं मत आना।
राजू कॉल कट करके बड़बड़ाता है कितनी बत्तमिज लड़की है बुलाती है और माना भी करती है। राजू गाड़ी ले के अजंता टॉकीज की गया। वहा जाके देखा तो प्रिया खड्डे के पास रो रही थी। राजू गाड़ी से उतर के बोला : क्या हुआ? और इतनी रात को कहा जा रही थी? किससे मिलने जा रही थी? प्रिया : में किसिसे भी मिलु तुम्हे क्या ? राजू : अब रोना बंद करो बोलो कहा जाना है छोड़ आता हूं तुम्हे वहा। तब प्रिया बोली में तुम्हारे पास आ रही थी तुमसे माफी मांगने के लिए। सॉरी राजू मुझे माफ़ करदो। राजू : it's ok. फिर राजू प्रिया को उठाकर गाड़ी में बिठाया। और दोनों जाने लगे। तब प्रिया राजू के सामने चुपके से देखती है। राजू प्रिया के सामने देखता है। प्रिया का रूम आ जाता है प्रिया गाड़ी से उतर कर अपने रूम में चली जाती है। रास्ते में राजू प्रिया के बारे में सोचता है। प्रिया का भी यही हाल है।
एक दूसरे को कॉल करने के बारे में सोचते है पर,,,, फिर से अपने जज्बात रोक लेते है। प्रिया सोचने लगी। मुझे प्यार हो गया है राजू से में कल उसे बता दूंगी। वो फिर से राजू के घर जाने के लिए सोचती है। वो राजू के घर चली गई। लेकिन उसे राजू का कमरा मालूम नहीं था। उसने डोरबेल बजाई राजू की मां ने दरवाजा खोला।
प्रिया घबरा गई बोली। वो,, आंटी,,, में,,, वो,,,नमस्ते आंटी। में राजू की दोस्त हूं कॉलेज में पढ़ती हूं साथ में। राजू है स्टडी का कुछ काम था। राजू की मां ने कहा हा बेटा आओ ना। सामने वाला राजू का रूम है। पर,,,, राजू तो बाहर गया है. प्रिया: कोई बात नहीं में राह देख लूंगी आंटी।। प्रिया राजू के कमरे में गई और राजू के कपड़े. बुक. सब कुछ देख रही थी कि राजू आया। तुम??? मेरे घर पे?? Whyyy? प्रिया : में बस तुमसे मिलने चली आई। राजू: ओह हैलो, मुझे मिलने मत आना ओके। अपने काम से काम रखो तुम। तब प्रिया रोने लगी और बोली में तो तुमसे ये बताने से थी कि में तुमसे बहुत प्यार करती हूं और तुम्हारे बिना जी नहीं सकती।। लेकिन तुम्हारा जवाब मिल गया अब कभी नहीं आऊंगी यहां.,,,। कल सुबह चली जाऊंगी वापस अपने शहर। मुंबई नहीं रहना अब मुझे। सॉरी एंड बाय। प्रिया रोती हुई वहा से चली गई। राजू को बहुत बुरा लगा। राजू : वो जा रही है तो मुझे इतना दुख क्यों हो रहा है? में भी तो,,,,,,,,,, हा में भी उसे प्यार करने लगा हूं। सुबह उठकर राजू प्रिया के घर जाता है। और प्रिया जाने के लिए पेकिंग कर रही होती है। दरवाजा खुला ही होता है। राजू रूम के अंदर जाके प्रिया के पीछे खड़ा रह जाता है। प्रिया पीछे मुड़ती है तो डर जाती है। प्रिया चीखने वाली ही होती है कि राजू हाथ से मुंह बंद कर देता है। प्रिया के आंखो से पानी निकलता है। राजू धीरे से मुंह से हाथ लेख प्रिया को सॉरी बोलता है। प्रिया: it's ok अब जा सकते हो तुम। तब राजू बोला। I love you priyu। मुझे छोड़कर चली जाओगी? में इतना बुरा हूं? ऐसा बोल कर अपने हाथ को दीवार पे मारने लगता है। तब प्रिया उसके हाथ ले लेती है और हाथ में किस करती है। और I love you too बोल के राजू को गले लगा लेती है। राजू रोते हुवे बोलता है। अब तो तुम्हे किडनैप कर सकता हूं ना? तब प्रिया राजू को रोते रोते हसने लगती है और राजू को प्यार से थपकी मारती है। दोनों एक साथ एक कॉलेज में पढ़ने चले जाते है। और उसका नोक जोक वाला प्यार चलता रहता है।।।।। 😘

रेट व् टिपण्णी करें

सबसे पहले टिपण्णी लिखें