आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 8 ARUANDHATEE GARG मीठी द्वारा महिला विशेष में हिंदी पीडीएफ

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 8



आखिरी लाइन कहकर सुनीता जी फिर शांत हो जाती हैं , तो स्तुति उन्हें आगे बताने के लिए कहती है । वो अपने आसूं साफ कर आगे कहती हैं ।

सुनीता जी - अपनी बच्ची की हालत जानकर गुड़िया के पापा के पैरों तले जमीन ही नहीं रहती और वो वहीं पड़ी कुर्सी पर बैठ जाते हैं । हम उनसे भी गुड़िया से मिलने की गुहार लगाते हैं , पर वे कुछ नहीं कह पाते । डॉक्टर्स ने गुड़िया से किसी को मिलने नहीं दिया था , न ही हमसे और न ही गुड़िया के पापा से । अगले दस दिन तक वो लोग गुड़िया को अंडर ऑब्जर्वेशन रखते हैं , और उसकी हालत को देखते हैं । दस दिन बाद जब हमारी गुड़िया से न मिलने के कारण तबियत खराब होने लगती है , तो गुड़िया के पापा डॉक्टर से रिक्वेस्ट करते हैं , तो डॉक्टर सिर्फ दस मिनट के लिए मिलने की परमिशन दे देते हैं । हम तो उतने में ही खुश हो जाते हैं , कि अब हम अपनी बच्ची को देखेंगे । गुड़िया के पापा और हम गुड़िया के कमरे में जाते हैं , लेकिन गुड़िया पर नज़र पड़ते ही हम दोनों के पैर दरवाजे पर ही ठिठक जाते हैं , हमारी छः महीने की फूल सी बच्ची , जिसने अभी हमें मां कहना भी शुरू नहीं किया था , ढंग से करवट लेना भी जिसने नहीं दिखा था , वो आज पट्टियों से लिपटी , मशीनों से घिरी हुई एक कांच के बॉक्स में बंद थी । होश ही नहीं आया था उसे दस दिन से …..। हम दोनों ने गुड़िया को एक नज़र देखा और रो पड़े , लेकिन तब तक हमारे दस मिनट खत्म हो चुके थे , हमें जाने के लिए कहा गया । हम नहीं जाना चाहते थे , मगर हमें जबरदस्ती बाहर भेजा गया। अगले 5 दिन और गुड़िया को होश नहीं आया , तो सभी ने अपनी उम्मीद खो दी , डॉक्टर ने भी हाथ खड़े कर दिए , लेकिन पता नहीं क्यों , हमें ये सब झूठ लगा , ऐसा लगा जैसे हमारी गुड़िया अभी भी हमारे साथ है , वो रो रही है और उसे भूख लगी है .…...। हमने डॉक्टर की नहीं सुनी और तुरंत गुड़िया के कमरे में चले गए, तो हमारी उम्मीद सच निकली । हमारी बच्ची..... , धीमी आवाज़ में रो रही थी और उसे होश आ चुका था । जब डॉक्टर्स ने देखा , तो वो भी हैरान हुए , फिर जल्दी से उन लोगों ने गुड़िया का चेकअप किया और बताया कि वो अब ठीक है , और ये तो चमत्कार हो गया , क्योंकि कुछ समय पहले तक गुड़िया की धड़कने रुक गई थी । हमें बहुत खुशी हुई , कि हमारी बच्ची हमारे पास आ गई वापिस । एक दो दिन गुड़िया को और अंडर ऑब्जर्वेशन रखा गया , फिर उसे हमारी गोद में दिया गया , तब तक गुड़िया की पट्टियां खुल चुकी थी , लेकिन...............!!!!!!

इतना कह कर सुनीता जी शांत हो जाती है , तो स्तुति उनसे कहती है ।

स्तुति - लेकिन क्या....., लेकिन क्या आंटी...????

सुनीता जी ( रोते हुए ) - हमारी बच्ची की जान तो बच गई , लेकिन उसे जिंदगी भर का दाग मिल गया... । ( स्तुति हैरान और नासमझ सी उन्हें देखती है, तो वे कहती हैं ) इस हादसे में गुड़िया के बाएं तरफ का चेहरा , बाएं तरफ का गले का हिस्सा और साथ ही बाएं तरफ के कंधे तक का हिस्सा बुरी तरह से जल चुका था , चमड़ी पूरी काली पड़ गई थी और कहीं - कहीं पर सफेद । डॉक्टर्स ने बताया , कि गुड़िया के शरीर का खून भी लगभग सूख चुका था उस हिस्से का ...., जिसे उन लोगों ने बहुत जद्दोजहद के बाद , गुड़िया के उस हिस्से को कम से कम इस लायक बनाया, कि उस हिस्से में कम से कम खून पहुंच सके , और उन्होंने बहुत कोशिशों के बाद गुड़िया के उस हिस्से को काम करने लायक बनाया था , लेकिन उसमें गुड़िया का कान बुरी तरह जल चुका था , वह सुन तो सकती थी , पर उस हिस्से को कभी पूरा - पूरा महसूस नहीं कर सकती थीं, या ये कहें कि उसकी उस तरफ की त्वचा हमेशा ही ऐसे ही रहने वाली थी..... । गुड़िया बहुत छोटी थी, इस लिए डॉक्टर्स ने बताया कि वो इस उम्र में गुड़िया की सर्जरी नहीं कर सकते । उस हादसे ने हमारी बेटी की खूबसूरती छीन ली थी । उसके बाद , गुड़िया जैसे - जैसे बड़ी होने लगी , वह उसी दाग के साथ जीने लगी, मगर कोई उसके चेहरे को देखकर कुछ कह न दे , इस लिए हम उसे हमेशा ठंड वाला स्कार्फ पहना कर रखते थे , जिससे गुड़िया के चेहरे के दाग ढके रह सकें । गर्मी में भी हमारी बच्ची स्कूल...., स्कार्फ पहनकर जाती थी । धीरे - धीरे वो भी समझने लगी , कि हम ऐसा क्यों करते हैं और फिर उसने अपना चेहरा खुद दुनिया से छुपाना चालू कर दिया । लेकिन उसके साथ ही , वह खुद को और हम उसे दुनिया की बद्सलुकियों और लोगों के तानों से नहीं बचा पाए । गुड़िया जब कॉलेज जाने लगी , तब पता चला कि जबलपुर में प्लास्टिक सर्जरी होती है, जिससे गुड़िया का पूरा चेहरा ठीक हो जायेगा । हमें एक उम्मीद की किरण दिखी , और हम सभी के मन में खयाल आया कि अब हमारी गुड़िया भी आम लोगों की तरह जिंदगी जी पायेगी , लेकिन शायद भगवान को ये मंजूर ही नहीं था कभी.... । तभी तो उन्होंने इतने बड़े हादसे से तो हमारी बच्ची की जान बचा ली थी , लेकिन जिंदगी भर का दर्द उसके नाम कर दिया था .....। हमने जबलपुर में गुड़िया की प्लास्टिक सर्जरी करवाई , लेकिन उससे कोई खास असर नहीं पड़ा , डॉक्टर्स ने बताया कि वे उसके शरीर की सही त्वचा को रिप्लेसमेंट कर , गुड़िया की जली हुई त्वचा पर जब सेट करने की कोशिश करते हैं , तो वह सही त्वचा भी पिघल जाती है , या एक तरह से कहे गुड़िया की जली हुई त्वचा , किसी भी तरह की ट्रीटमेंट एक्सेप्ट नहीं कर पा रही थी । डॉक्टर्स ने बताया , कि पूरी तरह से निशान तो नहीं जा पायेंगे , लेकिन अगर भगवान ने चाहा तो, चार पांच सर्जरी के बाद , अगर गुड़िया की त्वचा ने ट्रीटमेंट एक्सेप्ट की तो , कम से कम उसकी त्वचा थोड़ी तो नॉर्मल हो ही सकती है । अभी तक गुड़िया के तीन ऑपरेशन हो चुके हैं , जिससे कुछ खास फर्क तो नहीं पड़ा है , लेकिन हां...., उसकी जली हुई त्वचा अब सफेद पड़ने लगी है। और वह अब उभरी होने की जगह , सिमटने लगी है । लेकिन असल में कहा जाए तो , वह अभी भी उतनी ही अजीब लगती है , जितनी तब लगती थी । पर हमारे लिए तो हमारी बच्ची , हमेशा से ही खूबसूरत थी । इसी लिए हम चाहते हैं , कि हमारी बच्ची को कोई ऐसा जीवन साथी मिले , जो उसके चेहरे से नहीं , बाकी उसकी अच्छाइयों और उसके मासूम दिल से प्यार करे । लेकिन कहते है न , कि किसी - किसी की किस्मत में प्यार नहीं ही लिखा होता है । शायद हमारी गुड़िया की जिंदगी में भी शादी और प्यार करने वाला पति का सुख ,नहीं लिखा हुआ है । अब तो हम भी उम्मीद छोड़ चुके हैं और हमें भी लगता है कि ये बेकार की कोशिशें करने की जगह , हम अपनी बच्ची का उसके जीवन जीने की ललक में उसका साथ दे । लेकिन इन सबमें गुड़िया ने कही न कही हमें अपना कसूरवार मान लिया है , वह हमसे सब कुछ बताती है , बहुत प्यार करती है हमसे , लेकिन कभी अपनी दुख परेशानी हमसे नहीं कहती , पता नहीं उसकी जिंदगी में कभी कुछ ठीक होगा भी या नहीं।

स्तुति ( अपने आंसू पोंछ कर कहती है ) - इतना सब जानने के बाद , हमें नहीं लगता कि हमें आभा को शादी के लिए अब दोबारा कहना चाहिए । इसकी जगह हम उसे जी भर कर प्यार दें , तो वह ज्यादा मुनासिब होगा और आभा को उससे खुशी भी मिलेगी।

सुनीता जी ( स्तुति के सिर पर हाथ फेर कर बोली ) - तुम ठीक ही कह रही हो बिटिया , गुड़िया को अब हम इतना प्यार देंगे , कि वो अपने सारे दुःख दर्द भूल जाए , भले ही उसकी शादी कभी न हो , लेकिन तब भी हम कभी उसका साथ नहीं छोड़ेंगे , और वैसे भी हमारी बेटी हमारे घर की लक्ष्मी हैं और लोगों की बातों में आकर हमारी बेटी हमारे लिए कभी बोझ नहीं बनेगी । हम अपनी बेटी को हमेशा अब अपने पास ही रखेंगे और उसे हमेशा खुश भी रखेंगे ।

स्तुति उनकी बात सुनकर , आसूं भारी आखों से ही मुस्कुरा देती है ......।

क्रमशः

रेट व् टिपण्णी करें

Liza Ansari

Liza Ansari 11 महीना पहले

Suresh

Suresh 11 महीना पहले

Nayana Bambhaniya

Nayana Bambhaniya 11 महीना पहले

Sanjeev

Sanjeev 11 महीना पहले