असफलता सफल व्यक्ति की पहली शुभचिन्तक होती है .. Rudra द्वारा पत्रिका में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
शेयर करे

असफलता सफल व्यक्ति की पहली शुभचिन्तक होती है ..

* असफलता सफल व्यक्ति की पहली शुभचिन्तक होती है || *


*ज़िंदगी में सफल होने का एक ही मंत्र है हर बार की असफलता के बाद उस असफलता के कारण को पूर्ण रूप से खत्म कर दो... क्यूंकि अगर आप आज भी वही कर रहे हैं जो अब तक कर रहे थे, तो आपको आज भी वही मिलेगा जो अब तक मिल रहा था ||


परन्तु,
उसके लिए आपको खुद पर और अपने काम पर विश्वास होना बहुत जरुरी है


क्यूंकि,
सत्य यही है, वह इंसान जो जानता है.. मैं क्यों और क्या कर रहा हूँ और यह कैसे करना है! ऐसे इंसान को कोई नहीं रोक सकता ||


और मैं ये आपको इसलिए कह रहा हूँ क्यूंकि में जानता हूँ ऐसा करने पर परिणाम चाहे जो भी हो अंत में आपको इस बात की संतुष्टि रहेगी मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ किया और मैं यही कर सकता था । क्यूंकि ऐसा करने पर ज़िंदगी के किसी भी पल में आपको यह अफ़सोस नहीं रह जायेगा की शायद उस दिन मेने यह भी कर लिया होता या उस दिन शायद में यह भी कर सकता था , पर.. !!!


यह अफ़सोस इस बात का एहसास दिलाता रहेगा की आपको एक ज़िंदगी मिली, हर मौका मिला, वक़्त - वक़्त पर आपको बहुत बार एहसास भी हुआ की एक बार इस ज़िंदगी को साकार कर लिया जाए, पर में सारी ज़िंदगी जी कर भी उसे जी न सका ।


मैने अपनी ज़िंदगी में हर तरह का दौर देखा और जिया भी, बहुत लोगों से मिला, लगभग हर उम्र के लोग शामिल हुए मेरे सफर में !!
मैंने बहुत लोगों के सफर को इत्मिनान से सुना और समझने की कोशिश की, बच्चों से लेकर एक परिपक्व उम्र, या यूँ कहूं युवावस्था तक, लगभग हर उम्र । सभी के पास बहुत सारे सपने थे, हर किसी को अपनी दुनिया बदलनी थी । हर कोई परेशान भी दिख रहा था, पर मैंने महसूस किया की हर कोई अपनी छोटी - छोटी समस्याओं के बारे में सोचकर ज़िंदगी जी रहा था, पर सोच सभी रहे थे ।
पर न तो उन लोगों के पास अपने सपनो को जीने का समय था और न ही उस परेशानी को आज ख़त्म करने का कोई तरीका !!
अच्छा, मुझे अपनी ज़िंदगी जीने के बाद ऐसा लगा, की ऐसा नहीं होता है की हम हमारी समस्याओं को खत्म करने के सक्षम नहीं होते हैं या हमारी समस्याओं का हमारे स्वयं के आलावा कोई और कारण भी हो सकता है । बस मुझे ऐसा लगा उन लोगो को ऐसा लग रहा था की अगर वो आज का दिन निकाल लेंगे तो कल कोई चमत्कार होगा और वो सभी कल बहुत सफल हो जाएंगे । और मैं तब बस ये सोच कर परेशान था की कितने ही कल वो अब तक निकाल चुके है और उनकी आने वाली ज़िंदगी में वो क्या करना चाहते थे । मैं भी कुछ ज्यादा नहीं समझ पाया ॥


पर हां इसी भीड़ में, मैं उन हीरों से भी मिला, जो मेरी सोच से आगे निकल कर सच में चमत्कार कर चुके थे ! ये वो लोग थे जिनके पास सवाल ही नहीं था कल होने का !! वो आज में जीते थे, आज में सब करना कहते थे, और वो आज का काम आज खत्म कर देते थे !! वो लोग आज कोई आईएएस है, आईपीएस है या अपनी ज़िंदगी में बहुत सफल है और संतुष्ट भी ॥


अंत में बस यही बात समझ आयी "लोग वही सफल हुए, जिन्होंने अपने सपनो को जिया और उन्हें साकार करने का हर संभव प्रयास भी किया ॥

अफलता के भय से किसी भी काम को अधूरा मत छोड़ो, क्यूंकि आपके हर असफल प्रयास आपकी सफलता के लिए *नींव की ईंट* का काम करते हैं जो आपको मजबूत बनाते हैं, और यही प्रयास आपको और दुनिया को आपकी प्राप्त की गई सफलता की कीमत बताते हैं ॥ "

सब्सक्राइब आवर चैनल

YouTube channel – https://www.youtube.com/ channel/ UCefnmNQ8MIamQwTh3Qgpmcg


"No one can give the better explanation about YOU except 'YOURSELF'.

FILL THE FORM https://lnkd.in/fhvxfuc

To know more about IMRudra

Website - www.imrudra.com

Email - rudra@imrudra.com

Contact us - (+91)-8585949794