मेरी पगली...मेरी हमसफ़र - 8 Apoorva Singh द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

मेरी पगली...मेरी हमसफ़र - 8

Apoorva Singh मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी प्रेम कथाएँ

प्रीत छत पर पहुंचा और आराध्या को कॉल लगाते हुए बोला, 'हां, बोलो आराध्या'! आराध्या गुस्से में बोली, 'बोलूं क्या बोलूं मै, मतलब हम'! कहां बिजी हो इतने!और तुम्हारा फोन तानी के पास क्यों है'? प्रीत ने फोन कान ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प