मेरे शब्द मेरी पहचान - 1 Shruti Sharma द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मेरे शब्द मेरी पहचान - 1

Shruti Sharma द्वारा हिंदी कविता

----वो दोस्ती ही क्या जिसमें तक़रार न हो----वो दोस्ती ही क्या जिसमें प्यार न हो ,वो सफलता ही क्या जिसमें इन्तजार न हो ,दोस्ती तो दो आत्माओं का मिलन है ,पर वो दोस्ती ही क्या जिसमें तक़रार न हो ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प