‘बाला’ फिल्म रिव्यू - आयुष्मान का जादू फिर चलेगा..?  Mayur Patel द्वारा फिल्म समीक्षा में हिंदी पीडीएफ

‘बाला’ फिल्म रिव्यू - आयुष्मान का जादू फिर चलेगा..? 

Mayur Patel मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी फिल्म समीक्षा

एक जैसे विषय पर बनी ‘ट्विन’ फिल्मों का एक ही समय पर रिलिज होने का किस्सा बोलिवुड में कोई नई बात नहीं है. 1993 में सुभाष घई की ‘खलनायक’ (सुपरहिट) के पीछे पीछे आई ‘खलनाईका’ (सुपरफ्लॉप) के सब्जेक्ट में ...और पढ़े