शलजम Saadat Hasan Manto द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

शलजम

Saadat Hasan Manto मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी लघुकथा

“खाना भिजवा दो मेरा। बहुत भूक लग रही है” “तीन बज चुके हैं इस वक़्त आप को खाना कहाँ मिलेगा?” “तीन बज चुके हैं तो क्या हुआ। खाना तो बहरहाल मिलना ही चाहिए। आख़िर मेरा हिस्सा भी तो इस ...और पढ़े