राबिया का जूता Omprakash Kshatriya द्वारा सामाजिक कहानियां में हिंदी पीडीएफ

राबिया का जूता

Omprakash Kshatriya द्वारा हिंदी सामाजिक कहानियां

राबिया का जूता ओमप्रकाश क्षत्रिय 'प्रकाश' राबिया अपने भाई के पुराने जूते पहन—पहन कर परेशान हो गई थी. उस ने कई कोशिश की मगर, उसे नए जूते नहीं मिले. इस बार उस ने पापा से कह दिया, '' ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प