हिंदी लघुकथा किताबें और कहानियां मुफ्त पीडीएफ

    मुलाक़ाती
    by Saadat Hasan Manto
    • (4)
    • 74

    “आज सुबह आप से कौन मिलने आया था” “मुझे क्या मालूम मैं तो अपने कमरे में सौ रहा था।” “आप तो बस हर वक़्त सोए ही रहते हैं आप ...

    एक गधे का दर्द
    by Ajay Amitabh Suman
    • (4)
    • 54

    अपना गधा संपन्न था , पर सुखी नहीं। दर्द तो था , पर इसका कारण पता नहीं चल रहा था। मल्टी नेशनल कंपनी में कार्यरत होते हुए भी , ...

    नदी की उँगलियों के निशान - 1
    by Kusum Bhatt
    • (0)
    • 19

    नदी की उंगलियों के निशान हमारी पीठ पर थे। हमारे पीछे दौड़ रहा मगरमच्छ जबड़ा खोले निगलने को आतुर! बेतहाशा दौड़ रही पृथ्वी के ओर-छोर हम दो छोटी लड़कियाँ...! ...

    हिवड़ो अगन संजोय
    by Anju Sharma
    • (3)
    • 56

    ऐ तवा ल्यो, कड़ाही ल्यो, चिमटा ल्यो, दरांत ल्यो ....  बलखाती हुई आवाज़ के साथ वह लचककर मूलिया दर्जी की दुकान के नुक्कड़ से घूमी तो चौराहे पर मौजूद नज़रें उसी ...

    मुनासिब कारवाई
    by Saadat Hasan Manto
    • (7)
    • 75

    जब हमला हुआ तो मोहल्ले में से अक़ल्लियत के कुछ आदमी तो क़त्ल होगए। जो बाक़ी थे जानें बचा कर भाग निकले। एक आदमी और उस की बीवी अलबत्ता ...

    एक अदद फ्लैट - 3
    by Arpan Kumar
    • (4)
    • 55

    नंदलाल ऊषा की बात बड़े ध्यान से सुन रहे थे। उन्हें अपनी माँ से कुछ ऐसी ही शुष्कता की उम्मीद थी। उन्हें हमेशा यह मलाल रहा कि उन्हें कभी ...

    फ़टीचर आशिक़
    by Swatigrover
    • (13)
    • 108

    "नेहा  मैं  तुमसे  प्यार  करता  हूँ  मैं  तुम्हारे  बिना  नहीं  रह  सकता ।" "अमन  प्यार  से  पेट  नहीं  भरता  ज़िन्दगी  जीने  के  लिए और भी चीज़े  चाहिए होती है, जैसे  ...

    परावर्तन
    by Sushma Munindra
    • (2)
    • 43

    जज ने चोर को सजा सुनाई। चोर ने जज से कहा — साहब सजा मुझे नहीं मेरी मॉं को दो । मॉं ने बचपन में मुझे चोरी करने से ...

    भोलू और शेरू
    by Amita Joshi
    • (4)
    • 37

    एक आठ साल का लड़का था नाम था भोलू वो गांव में अपने घर में रहता था और पढ़ने के लिए गांव से दस किलोमीटर ...