हिंदी लघुकथा किताबें और कहानियां मुफ्त पीडीएफ

    इन्तज़ार
    by Kalyan Singh
    • (0)
    • 4

           दोपहर का समय था मैं और अनूप अपनी फील्ड ट्रेनिंग पर चेन्नई जा रहे थे ,  तभी हमारी ट्रेन नागपुर पहुंची और हमें अपनी सामने वाली ...

    सौदा बेचने वाली
    by Saadat Hasan Manto
    • (13)
    • 81

    सुहैल और जमील दोनों बचपन के दोस्त थे...... उन की दोस्ती को लोग मिसाल के तौर पर पेश करते थे। दोनों स्कूल में इकट्ठे पढ़े। फिर इस के बाद ...

    टिफिन
    by Satender_tiwari_brokenwords
    • (7)
    • 97

    इस कहानी एक काल्पनिक रचना है। इस कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है।। **********************************************रोहन की टिफ़िन में दाल चावल होता था जिसे वो बिरयानी बोलता था। और अमन के ...

    श्रेया-विस्तार
    by Sultan Singh
    • (2)
    • 61

    सूरज दाहिनी ओर से निकल कर माथे पर चढ़ रहा था। लेकिन श्रेया को इसका शायद ही अहसास हो, आज वह पता नही अपने ही विचारो में खोई खोई ...

    सौ कैंडल पॉवर का बल्ब
    by Saadat Hasan Manto
    • (9)
    • 127

    वो चौक में क़ैसर पार्क के बाहर जहां टांगे खड़े रहते हैं। बिजली के एक खंबे के साथ ख़ामोश खड़ा था और दिल ही दिल में सोच रहा था। ...

    सोनोरल
    by Saadat Hasan Manto
    • (9)
    • 112

    बुशरा ने जब तीसरी मर्तबा ख़्वाब-आवर दवा सोनूरल की तीन टिकियां खा कर ख़ुदकुशी की कोशिश की तो मैं सोचने लगा कि आख़िर ये सिलसिला क्या है। अगर मरना ...

    अंशकथा - 2
    by Kavi Ankit Dwivedi Anal
    • (3)
    • 63

    कथा 01- पुराना बरगद का पेड़अरे सुनो ! सुनो तो !आखिर मैं भी इसी समाज का सदस्य हूँ । फिर सबने मुझे यूँ अकेला क्यों छोड़ दिया । क्या ...

    विश्वास
    by राजनारायण बोहरे
    • (3)
    • 92

    कहानी-                                   विश्वास                                                                                                                           राजनारायण बोहरे बाबू हरकचंद का ज़िंदगी भर का विश्वास एकाएक ढह गया।             वे जब

    सोने कि अंगूठी
    by Saadat Hasan Manto
    • (11)
    • 196

    “छत्ते का छत्ता होगया आप के सर पर मेरी समझ में नहीं आता कि बाल न कटवाना कहाँ का फ़ैशन है ” “फ़ैशन वेशन कुछ नहीं तुम्हें अगर बाल कटवाने ...

    सुरमा
    by Saadat Hasan Manto
    • (11)
    • 182

    फ़हमीदा की जब शादी हुई तो उस की उम्र उन्नीस बरस से ज़्यादा नहीं थी। उस का जहेज़ तैय्यार था। इस लिए उस के वालदैन को कोई दिक़्क़त महसूस ...

    CYBER CRIME
    by Urvil V. Gor
    • (21)
    • 256

    'अरे चल कुशल बस आने ही वाली है' हर्ष ने कुशल को थोड़ा भारी आवाज में कहा।कुशल:- बस यार 5 मिनिट ख़तम होने को ही आया है।हर्ष :- अरे ...

    HELMET - 3
    by Vismay
    • (1)
    • 83

    उस फोटो को बडी सी frame में अपने घर में लगायेगा और जितने हो सके उतने लोगो को हेलमेट पहनने के लिए प्रेरित करेगा.           कबीर ...

    छोटे दिल वाला बड़ा आदमी
    by Ajay Amitabh Suman
    • (9)
    • 114

    राजेश दिल्ली में एक वकील के पास ड्राईवर की नौकरी करता था।  रोज सुबह समय से साहब के पास पहुंचकर उनकी   मर्सिडीज बेंज की सफाई करता और साहब जहाँ कहते ...

    सिराज
    by Saadat Hasan Manto
    • (12)
    • 134

    नागपाड़ा पुलिस चौकी के उस तरफ़ जो छोटा सा बाग़ है। उस के बिलकुल सामने ईरानी के होटल के बाहर, बिजली के खंबे के साथ लग कर ढूंढ़ो खड़ा ...

    अनोखी मुस्कान - छोटी कहानी
    by Ramesh Desai
    • (5)
    • 137

    ' डेडी ! वोट ए सरप्राइज ! आप के जन्म दिन को ही मेरी शादी होने जा रही हैं . यह दिन हम भला भूलना चाहे तो भी कभी ...

    सिगरेट और फाउन्टेन पेन
    by Saadat Hasan Manto
    • (15)
    • 1.3k

    सिगरेट और फाउन्टेन पेन “मेरा पारकर फिफ्टी वन का क़लम कहाँ गया।” “जाने मेरी बला ” “मैंने सुबह देखा कि तुम उस से किसी को ख़त लिख रही थीं अब इनकार कर ...

    साहब-ए-करामात
    by Saadat Hasan Manto
    • (14)
    • 1.7k

    चौधरी मौजू बूढ़े बरगद की घनी छाओं के नीचे खड़ी चारपाई पर बड़े इत्मिनान से बैठा अपना चिमोड़ा पी रहा था। धुएँ के हल्के हल्के बुक़े उस के मुँह ...

    HELMET - 2
    by Vismay
    • (2)
    • 96

    उस बच्चे का रोना भी बडा अजीब सा था .मानो जैसे कोई बहुत ददँ में हो और रो रहा हो,इस बात ने कबीर को अंदर तक हिला के रख ...

    साढ़े तीन आने
    by Saadat Hasan Manto
    • (18)
    • 163

    “मैंने क़तल क्यूँ किया। एक इंसान के ख़ून में अपने हाथ क्यूँ रंगे, ये एक लंबी दास्तान है । जब तक मैं उस के तमाम अवाक़िब ओ अवातिफ़ से ...

    मेरी कलम से - इन्द्र सभा
    by Kalpana Bhatt
    • (3)
    • 48

    इंद्र सभाइंद्र सभा में आज सभी देव आमंत्रित थे| देवों के मनोरंजन के लिए अप्सराएँ नृत्य कर रही थी| सभी देवगण हर्षित थे और नृत्य और मदिरा का आनंद ...

    सीख़..!
    by Dipti Methe
    • (5)
    • 77

           सीख़..!Description : स्वाभिमान की परिभाषा आखिर कैसे एक कुत्ता सिखा देता हैं | ईसपर एक लघुकथा.         सरिता के गुज़र जाने के बाद मानो मैं ...

    सहाय
    by Saadat Hasan Manto
    • (9)
    • 117

    “ये मत कहो कि एक लाख हिंदू और एक लाख मुस्लमान मरे हैं...... ये कहो कि दो लाख इंसान मरे हैं...... और ये इतनी बड़ी ट्रेजडी नहीं कि दो ...

    दुनिया की सबसे बड़ी ताकत दोस्ती
    by Smit Makvana
    • (6)
    • 82

    भगवान श्री कृष्णा ने गीता में कहा था कि, "दोस्ती इस दुनिया सबसे बड़ी ताकतवर चीज है, जिससे सच्ची मित्रता प्राप्त हो उससे दुनिया की कोई ताकत हरा नहीं ...

    जीवनसाथी
    by Dr. Vandana Gupta
    • (12)
    • 150

           "सुनो! मैं तुम्हारा अपराधी हूँ। मैं जानता हूँ कि मैंने तुम्हारे साथ अन्याय किया है। जीवन के तीस बसंत तुमने मेरे इंतज़ार में गुजार दिए, उनको ...

    सरकण्डों के पीछे
    by Saadat Hasan Manto
    • (15)
    • 125

    कौन सा शहर था, इस के मुतअल्लिक़ जहां तक में समझता हूँ, आप को मालूम करने और मुझे बताने की कोई ज़रूरत नहीं ।बस इतना ही कह देना काफ़ी ...

    HELMET - 1
    by Vismay
    • (3)
    • 91

    अहमदाबाद हाइवे, फोर लेन, speed के दीवानोकी भाषामें बोले तो इकदम मखखन रोड. और उसी ऱोड पर इक जगह बहुत भयानक turn आता हैं.accident होने का खतरा :इक धंटे ...

    सब्ज़ सैंडिल
    by Saadat Hasan Manto
    • (19)
    • 166

    “आप से अब मेरा निबाह बहुत मुश्किल है मुझे तलाक़ दे दीजिए” “लाहौल वला कैसी बातें मुँह से निकाल रही हो तुम में सब से बड़ा ऐब एक यही है ...

    यलगार
    by Dipti Methe
    • (2)
    • 671

           Description :  हर तरफ इंग्लिश भाषा और लहेजेने कब्जा कर रखा हैं | हिंदी - मराठी स्कूल भी बंद होने की कगार पर हैं | ईसी ...

    तंग गलियाँ
    by Swatigrover
    • (23)
    • 199

    चाँदनी  चौक के बल्लीमरान  में  क़ासिम  जान गली  जहाँ  ग़ालिब  की  बची-कुची  हवेली  को  देखने  लोग  दूर-दूर  से  आते  है। वह  भी  रोज़  इसी ग़ालिब  की  गली  से  होकर और दो  ...

    गवाही
    by राज बोहरे
    • (8)
    • 100

    राजनारायण बोहरे की कहानी                                                                                              गवाही                 मजिस्ट्रेट साहब का रवैया देख मै हतप्रभ हो गया । वे जिस तू तड़ाक वाली भाषा में मुझसे सवाल जवाब कर रहे ...