कैथरीन और नागा साधुओं की रहस्यमयी दुनिया - 17 - अंतिम भाग Santosh Srivastav द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

कैथरीन और नागा साधुओं की रहस्यमयी दुनिया - 17 - अंतिम भाग

Santosh Srivastav मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

अंतिम अध्याय बिछोह नरोत्तम गिरी से कैथरीन का, कैथरीन से नरोत्तम गिरी का। दोनों अपनी अपनी धुन में अकेले होते चले गए। घाटियाँ वीरान होती रहीं। फिर -फिर फूलों से भरती रहीं। मौसम बदलते रहे। काल का चक्र कहाँ ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प