वह अब भी वहीं है - 3 Pradeep Shrivastava द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

वह अब भी वहीं है - 3

Pradeep Shrivastava मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

भाग - 3 कहने को वह धर्मशाला था, लेकिन वास्तव में वह शराबियों-मवालियों का अड्डा था। मैं जिस कमरे में था उसमें आमने-सामने छह तखत पडे़ थे, सब के सिरहाने एक-एक अलमारी बनी थी। सफाई नाम की कोई चीज ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प