कैसे मिल गए हम bhumesh kamdi द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

कैसे मिल गए हम

bhumesh kamdi द्वारा हिंदी लघुकथा

अहमदाबादसेमुंबईआजकायेसफरकुछअलगथा।मुझेयादनहींमेनेआखरीबारविंडोसीटकेलिएकिसीकोइतनापागलदेखाहो।तोआजकीडायरीएंट्रीअपनीखिड़कीवालीसीटकेनाम। मुंबई५घंटेदूरहै, शताब्दीमेंआरामसेअपनीसीटपरबैठकरकोईसीरीजदेखतेहुएटाइमकैसेनिकलजाताहै, पताहीनहींचलता।बैगउपररखकरफ़ोनकोसाइडचार्जपरकनेक्टकरबैठाहीथाकीएकआवाजआयी। Ø Hiie, uh can you help me plss? सचबताऊआवाजसुनकरदिलकीधड़कनबढ़सीगयीथीएंडजबनजरमिलीतोबस440 वोल्टकाकरंटमुझसेहोकरगुजरगया।ऐसालगाजैसेयेएकपेंटिंगहैबेशकीमती, याएकसपनाहै। Ø Sorry, uh परआपमेराबैगplease ऊपररखसकतेहै।its really heavy, um if you just help me ? Aree, ha sure, लाइए।क्याभराहैइसमईंटें… Ø नहीं... इसमेंबुक्सहै,खानाहै,अचारकेडब्बेहै, एकपुरानासाकैमराहैऔरहाकपडेऔरशूजतोहैही। All right, ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प