विश्वासघात(सीजन-२)--भाग(७) Saroj Verma द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

विश्वासघात(सीजन-२)--भाग(७)

Saroj Verma मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

उधर जेल में... आओ धर्मवीर! आओ...कैसे हो ?जेलर साहब ने धर्मवीर से पूछा।। जी !बहुत अच्छा हूँ,कहिए कैसे याद किया मुझे?धर्मवीर ने जेलर साहब से पूछा।। बस,खुशखबरी थी तुम्हारे लिए इसलिए याद फरमाया,जेलर साहब बोले..... मेरे नसीब में ,वो ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प