धारा - 15 Jyoti Prajapati द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

धारा - 15

Jyoti Prajapati मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी प्रेम कथाएँ

धारा के सवाल से देव के चेहरे का रंग उड़ गया !देव ने हकलाते हुए उससे पूछा, " मतलब..?कहना क्या चाहती हो तुम..? मैं याददाश्त जाने का नाटक भर कर रहा हूँ..! जबकि मैं ठीक हूँ , ऐसा...??"धारा, "हां ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प