कर्ण पिशाचिनी - अंतिम Rahul Haldhar द्वारा डरावनी कहानी में हिंदी पीडीएफ

कर्ण पिशाचिनी - अंतिम

Rahul Haldhar मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी डरावनी कहानी

अंतिम भाग" मुझे भूख लगी है । मुझे भूख चढ़ाओ । नर मांस दो मुझे... " कर्णपिशाचिनी के आवाज से मानो यह शांत जंगल कांप उठा । रात के कुछ पंछी डरते हुए उड़ गए । हर्षराय विकट परिस्थिति ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प