जीवन का आधार कर्म Roop Kishore द्वारा प्रेरक कथा में हिंदी पीडीएफ

जीवन का आधार कर्म

Roop Kishore द्वारा हिंदी प्रेरक कथा

श्रीमद भगवत गीता के दूसरे अध्याय के 47वें श्लोक "कर्मण्य वाधिकारस्ते माँ फलेशु कदाचन" के अनुसार मनुष्य का अधिकार केवल उसके कर्मो पर है । यूं तो कर्मों की व्याख्या की जाये तो कई ग्रन्थ बन ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प