फाँसी के बाद - 10 Ibne Safi द्वारा जासूसी कहानी में हिंदी पीडीएफ

फाँसी के बाद - 10

Ibne Safi मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी जासूसी कहानी

(10) सरला मोटर साइकल से उतर तो गई मगर फ़्लैट के दरवाजे की ओर नहीं बढ़ी । बस वहीँ खड़ी रही । शायद किसी अवसर की ताक में थी । मगर वह लोग भी कम चालाक नहीं थे । ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प