हमेशा-हमेशा - 3 Aditi Jain द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

हमेशा-हमेशा - 3

Aditi Jain द्वारा हिंदी प्रेम कथाएँ

अब्बू के साथ घर पहुँची शमा किसी मशीन की तरह अम्मी से मिली और सीधे अपने कमरे में चली गयी। 'उसे अपने अतीत के हादसों से उबरने के लिए कुछ वक़्त चाहिए' ऐसा सोचते-सोचते जब काफ़ी वक़्त बीत गया ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प