हिंदी प्रेम कथाएँ किताबें और कहानियां मुफ्त पीडीएफ

    कमसिन - 4
    by Seema Saxena
    • (0)
    • 11

    कुछ खाना है ? रवि ने पूछा ! नहीं, अभी मेरा मन नहीं कर रहा ! चलो नाश्ता कर ले ! काफी समय हो गया है ! कहीं रुकेंगे ...

    बरसात के दिन - 3
    by Abhishek Hada
    • (7)
    • 115

    अभी तो काॅलेज में आये दो दिन भी नही हुए और कोई लड़की भी पटा ली क्या ? - राकेश ने पूछाअरे नही यार ! तुझे कल बताया था ...

    कमसिन - 3
    by Seema Saxena
    • (9)
    • 113

    वो सड़क तक ही पहुची थी कि फिर से रवि का फोन आ गया ! घर से निकल कर सड़क तक आ गयी हूँ ! ठीक है आप वहीँ ...

    माँमस् मैरिज - प्यार की उमंग - 2
    by Jitendra Shivhare
    • (8)
    • 85

    मनोज ने गहरी सांस लेकर कहा- देखो भई! मैं तो इतना ही कह सकता हूं की तुम्हारी मां मुझसे शादी करने के बाद मेरे परिवार का हिस्सा होगी। तुम ...

    अंजामे मुहब्बत - 3
    by Angelgirlaaliya
    • (6)
    • 78

                            दूसरे दिन अस्र के वक़्त शमा उसे लेने आ गई थी।मम्मा ने भी उसे नही रोका था।वो ...

    कमसिन - 2
    by Seema Saxena
    • (12)
    • 102

    बुआ जी का दो कमरे का घर, वैसे तो काफी बड़ा घर है, चार मंजिल तक बना हुआ पर और कमरे किराये पर उठे हुए हैं ! वे अकेले ...

    लव आजकल - 2
    by Junaid Chaudhary
    • (1)
    • 44

    सारी मेहनत बेकार होती देख मेने अदन को मैसेज करा और बताया के वो फेक इज़ना खान की आई डी मेरी थी।उसके बाद अदन की गालियो की बौछार शुरू ...

    बरसात के दिन - 2
    by Abhishek Hada
    • (10)
    • 100

    इसमें जो लिखा है, वो सच है, जादू है, या सिर्फ एक इत्तेफाक कैसे पता करू ? राज से पूछूँ ? नही उसे पता चला तो कहीं काॅपी वापस ...

    माँमस् मैरिज - प्यार की उमंग - 1
    by Jitendra Shivhare
    • (14)
    • 104

    बबिता तनाव में है यह बात उसकी मां जानती थी। लेकिन बबिता इस तनाव को अपने ऊपर इतनी बुरी तरह से हावी होने देगी सीमा को यह तनिक भी ...