मे और मेरे अहसास - 27 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अहसास - 27

Darshita Babubhai Shah मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी कविता

हाथो की लकीरों मे नहीं है lउसका दिल में टैटू गया है ll **************************************************** छोटी छोटी बातों मे दिल मत दुखाया कीजिए lहर बार जान को तुम यू मत जलाया कीजिए ll **************************************************** सलीक़ा होता है पीने ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प