प्रतिशोध - 1 Ashish Dalal द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

प्रतिशोध - 1

Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

आशीष दलाल (१) ढ़लती दोपहर को अपने कमरे की खिड़की के पास बैठे हुए श्रेया बाहर बरसती बारिश की बूंदो को अपलक निहार रही थी । पास रखे उसके मोबाइल पर जगजीत और चित्रा सिंह की आवाजें गूंज रही ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प