भेद - 5 Pragati Gupta द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

भेद - 5

Pragati Gupta मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

5. शायद यही वज़ह थी जब दादाजी ने दूसरी स्त्री के साथ नाता जोड़ा, तो उनको यह बात बहुत अख़र गई| कोई भी औरत ख़ुद के जीते-जी यह बर्दाश्त नहीं कर सकती| उन्होंने हर तरह से बड़े दादा जी ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प