निपुणनिका--भाग(२) Saroj Verma द्वारा डरावनी कहानी में हिंदी पीडीएफ

निपुणनिका--भाग(२)

Saroj Verma मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी डरावनी कहानी

अब मेरी उम्र पचास साल की है,जब वो भयानक दिन मुझे याद आते हैं तो मेरे शरीर में मुझे अब भी झुरझुरी महसूस होती है। मैं बेहोश होकर वहीं पड़ा रहा, मनोज ने मुझे ढूंढने की कोशिश की लेकिन ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प