जय हो बकरी माई Ajay Amitabh Suman द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

जय हो बकरी माई

Ajay Amitabh Suman मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी कविता

(१) जय हो बकरी माई बकरी को प्रतीक बनाकर मानव के छद्म व्यक्तित्व और बाह्यआडम्बर को परिभाषित करती हुई एक हास्य व्ययांगात्म्क कविता। सच कहता हूँ बात बराबर,सुन ले मेरे भाई,तुझसे लाख टके है बेहतर तेरी ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प