शिवत्व को सदैव झहर ही पीना पड़ता है મનોજ જોશી द्वारा पत्र में हिंदी पीडीएफ

शिवत्व को सदैव झहर ही पीना पड़ता है

મનોજ જોશી द्वारा हिंदी पत्र

मोरारीबापु को भी झहर प्रभु प्रसाद समझकर सृष्टि के हित के लिए झहर पी लियाजय सियाराम, बापू?आपके प्राकट्य के पांच कारण बताए थे आपने!में इसका जो अर्थ समझा हूं, वह विनम्र भाव से व्यक्त करने की अनुमति चाहता हूं।?आपने ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प