गोपी गीत । - 1 NSR... द्वारा आध्यात्मिक कथा में हिंदी पीडीएफ

गोपी गीत । - 1

NSR... द्वारा हिंदी आध्यात्मिक कथा

* गोपियाँ बोली *गोपियाँ विराहावेश में गाने लगीं…प्यारे ! तुम्हरे जन्म के कारण वैकुंड आदि लोकों से भी व्रज की महिमा बढ गई है, तभी तो सौन्दर्य और मृदुत्नता की देबी लक्षमी जी भी अपना निवासस्थान वैकुंड छोड़कर यहाँ ...और पढ़े