गुलाबो सिताबो की समीक्षा Amit Singh द्वारा फिल्म समीक्षा में हिंदी पीडीएफ

गुलाबो सिताबो की समीक्षा

Amit Singh द्वारा हिंदी फिल्म समीक्षा

"कला और कहानी की कसौटी पर गुलाबो-सिताबो"साहित्य एवं कला विमर्श के क्षेत्र में एक प्रचलित वाद है- कलावाद | जोकि यूरोप से चला और फ्रेंच भाषा में इसका नारा बना- “ल’ आर पूर ल’ आर” यानी “कला कला के ...और पढ़े