सौंदर्य Seema Jain द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

सौंदर्य

Seema Jain मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी लघुकथा

दिपाली अपनी मां के सत्तरवें जन्मदिन पर मिलने आई थी। मां उम्र के साथ सिकुड़ती जा रही थी, इतनी बड़ी कुर्सी पर बैठी छोटी सी बच्ची लग रही थी। छोटे-छोटे सफेद बाल, चेहरे और शरीर पर झुर्रियां, एक निश्चल ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प