चुड़ैल का इंतकाम - भाग - 3 Devendra Prasad द्वारा डरावनी कहानी में हिंदी पीडीएफ

चुड़ैल का इंतकाम - भाग - 3

Devendra Prasad मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी डरावनी कहानी

उसने आव देखा न ताव मोटरसाइकिल को फेरारी की इंजन की तरह भगाता हुआ हनुमान चालीसा पढ़ने लगा। "जय हनुमान ज्ञान गुण सागर, जय कपीस तिहुँ लोक उजगर।राम दूत अतुलित बलधामा, अंजनी पुत्र पवन सुतनामा।।" अब वह उस अजनबी ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प