एक कारीगर की ख़ामोशी Arpan Kumar द्वारा सामाजिक कहानियां में हिंदी पीडीएफ

एक कारीगर की ख़ामोशी

Arpan Kumar मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी सामाजिक कहानियां

“भला इतने महँगे वार्डरोब बनवाने की क्या ज़रूरत है हरिराम?” अपने खर्चे से कुछ उकताया हुआ मैंने उससे साफ-साफ पूछा। “जिनके पास पैसे कम हैं, वे अपने घरों में लोहे की कोई अलमारी लाकर रख देते हैं। जिनके पास पैसे ...और पढ़े