मन्नू की वह एक रात - 19 Pradeep Shrivastava द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

मन्नू की वह एक रात - 19

Pradeep Shrivastava Verified icon द्वारा हिंदी प्रेम कथाएँ

‘बताऊं क्यों नहीं, जब एक बार शुरू कर दिया है तो पूरा बता कर ही ठहर पाऊंगी। जैसे एक बार चीनू के सामने फैली तो बरसों फैलती ही रही।’ ‘क्या! बरसों।’ ‘हां यह सिलसिला फिर कई बरस चला। शुरू के कुछ ...और पढ़े