मज़बूरी Nirpendra Kumar Sharma द्वारा महिला विशेष में हिंदी पीडीएफ

मज़बूरी

Nirpendra Kumar Sharma द्वारा हिंदी महिला विशेष

"मज़बूरी"नन्ही रौनक गुब्बारे को देख कर मचल उठी, अम्मा अम्मा हमें भी गुब्बारा दिलाओ ना दिलाओ ना हम तो लेंगे वो लाल बाला, दिलाओ ना अम्मा।भइया कितने का है फुग्गा कांता ने गुब्बारे बाले से पूछा।एक रुपए का है ...और पढ़े