स्मृति शेष Namita Gupta द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

स्मृति शेष

Namita Gupta मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी कविता

पिता की अचानक हुई मृत्यु से मैं बहुत व्यथित हो गई । इस झटके को मैं काफी समय तक भूल नहीं पाई । यह सदमा आज भी मुझे सालता है । मेरी लेखनी आज अपने उस दर्द को व्यक्त ...और पढ़े