बिटिया थोड़ी बड़ी हो गयी है (अप्रैल २०१९) महेश रौतेला द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

बिटिया थोड़ी बड़ी हो गयी है (अप्रैल २०१९)

महेश रौतेला द्वारा हिंदी कविता

बिटिया थोड़ी बड़ी हो गयी है(अप्रैल २०१९)१.थोड़ा बड़ा कर दो राजनीतिकि ठंडी ,बेहद ठंडी रातों मेंकिसान उसे ताप सकें।जवान उसे जी सकेंबेरोजगार उसे पा सकें,शिक्षा उसे माप सके।ओ राजनीति चक्रव्यूह न बनगीत का संगीत बन,राह की कीचड़ न बन।कहीं ...और पढ़े