पतझड़ Ved Prakash Tyagi द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

पतझड़

Ved Prakash Tyagi मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी लघुकथा

पतझड़ पंडित नारायण राव अक्सर सोहन के पास आकार बैठ जाया करते, अपनी कोयले वाली प्रैस से सोहन लोगों के कपड़े प्रैस करता रहता और पंडितजी उसको देश दुनिया की तमाम बातें बताते रहते। पूरे गाँव में सोहन ही ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प