उजड़ता आशियाना - जीवन पथ - 4 Mr Un Logical द्वारा पत्रिका में हिंदी पीडीएफ

उजड़ता आशियाना - जीवन पथ - 4

Mr Un Logical द्वारा हिंदी पत्रिका

किसी ने क्या खूब कहा है।जन्म हुआ तो मैं रोया और लोग हँसे, मौत आयी तो सब रोये मैं चैन से सोता रहा।ऊँची नीची जीवन पथ पर चलते चलते, हँसते रोते जन्म मरण का केल चला।जीवन की प्रति समर्पण ...और पढ़े